यूपीएससी पास युवक पहुंचा अपनी बहन के घर, ग्रामीणों ने किया स्वागत

संवादसूत्र,भिरडाना:

शुरुआतीशिक्षाप्राप्तकरनेकेबादआजकलकाविद्यार्थीवर्गकैरियरकीतलाशमेकोचिगसंस्थानोंकीरूखकरताहै।अगरमनमेजूनूनहोतोहमेंकहींकोचिगलेनेकीजरूरतनहींहै।यहबातअभीहालहीमेयूपीएससीकीपरीक्षामे625वींरैकिगमेरहे25वर्षीयराहुलमीणानेभिरडानामेएककार्यक्रमकेदौरानकही।मूलत:राजस्थानकेउदयपुरसेरहनेवालेराहुलमीणानेअपनेअनुभवसाझाकरतेहुएकहाकीउन्होंनेशुरुआतीशिक्षामेरठसेप्राप्तकीजिसकेबादउन्होंनेसीकरकेएककालेजसेबीटेककी।इसकेबादउन्होंनेदिल्लीसेयूपीएससीकीतैयारीकीजिसमेवहअबपासहुएहै।उन्होंनेकहाकीउन्होंनेदिनचर्याबनाकरदिनमेसातसेआठघंटेतकपढा़ईकीहै।किसीभीव्यक्तिकोजीवनमेकामयाबहोनेकेलिएखुदपरविश्वासहोनासबसेजरूरीहै।अगरआपकेभीतरविश्वासहैतोनिश्चिततौरपरआपहरमुकामहासिलकरसकतेहै।राहुलकेपरीक्षापासकरनेकेबादउनकीबड़ीबहनखुशबूमीणानेअपनीससुरालभिरडानामेकार्यक्रमआयोजितकरवायाथा।जिसमेगांवकेगणमान्यलोगोंनेभागलियाऔरराहुलकास्वागतभीकियागया।

ऐसेआयाउच्चाधिकारीबननेकाख्याल

राहुलमीणानेबतायाकीवहकिसीकामकोलेकरवर्ष2013मेसीकरकेकलेक्टरकार्यालयगए।वहांपरएसडीएमकेकार्यशैलीसेप्रभावितहोतेहुएउन्होंनेयूपीएससीकीपरीक्षापासकरकेउच्चाधिकारीबननेकाख्यालदिमागमेआयाऔरवहइसपरीक्षामेपासहुए।

दूसरीबारमेंमिलीसफलता

राहुलमीणानेबतायाकीउन्होंनेइससेपहलेभीयूपीएससीकीपरीक्षाएकबारदीहै।पहलीबारवहसफलनहींहोसकेलेकिनउन्होंनेहारनहींमानीऔरमातापिताकेसहयोगसेहीवहदूसरीबारपरीक्षामेसफलहुएहै।

मोबाइलपढाईसबसेबड़ीबाधा

राहुलनेकहाकीउन्होंनेअपनीपढ़ाईकेदौरानमोबाइलसेदूरीहीबनाएरखी।आजकेयुवाअपनाअधिकतरसमयमेमोबाइलपरसोशलमीडियाएपऔरगेम्सएपमेहीगुजारदेतेहैं।जिसकीवजहसेउनकापढ़ाईकरनेकासमयतोखराबहोताहीहैऔरध्यानभीभंगहोजाताहैजिसकीवजहसेदिमागपढाईपरकेन्द्रितनहींरहताइसलिएजितनाहोसकेइससेदूरीहीबनाएरखे।

इसअवसरपरसुभाषमीणा,दीपकभिरडाना,बीरबलमीणा,इन्द्राजदास,दलीपसहारण,रामनिवासफौजी,रामेश्वरथापनआदिमौजूदरहे।