शिवपुराण कथा सुनने से पापों से मिलती है मुक्ति

संवादसूत्र,फाजिल्का:डेराबाबाबलवंतगिरीसमाधिस्थलकेश्रीसाईबाबामंदिरकेप्रांगणमेंमहारुद्राभिषेकवश्रीशिवमहापुराणकथाकरवाईगई।इसमेंवृंदावनसेपहुंचेकथावाचकपंडितबद्रीप्रसादतिवारीनेशिवमहिमाकागुणगानकिया।

उन्होंनेकहाकिप्रभुकीप्रत्येकलीलाकेपीछेकोईनकोईआध्यात्मिकरहस्यनिहितहै,इसीलिएप्रभुकीलीलाओंकोदिव्यक्रीड़ाकहाजाताहै,जोतत्वसेप्रभुकोजानलेतेहैं।उनकाजीवनदिव्यतासेभरजाताहै।उन्होंनेकहाकिआजहमनेशिक्षाकोजीवनकानहींअपितुजीविकाकाएकमात्रसाधनमानलियाहै।शिक्षाकालक्ष्यतोइससेकहींज्यादाविराटहै।सहीअर्थोमेंशिक्षातोवहहै,जोविद्यार्थीकासंपूर्णविकासकरतीहै।उन्होंनेकहाकिआजकायुवापाश्चात्यसभ्यताकेप्रभावमेंइतनाअधिकआचुकाहैकिवहअपनीभारतीयसंस्कृतिकोभूलचुकाहै।उन्होंनेकहाकिशिवपुराणकीकथासुननेसेजन्मों-जन्मोंकेपापसमाप्तहोजातेहैं।कथाकेबादशिवलिगकामहारुद्राभिषेककियागया।इसमेंबड़ीसंख्यामेंश्रद्धालुओंनेबिलपत्र,फलों,दूधऔरजलसेशिवलिगकाअभिषेककिया।इसमौकेश्रीअजमेरगिरीकेपरमशिष्टसुरिद्रगिरी,सबलीगिरीवकन्हैयालालभारतीभीविशेषरूपसेउपस्थितहुए।

अबखबरोंकेसाथपायेंजॉबअलर्ट,जोक्स,शायरी,रेडियोऔरअन्यसर्विस,डाउनलोडकरेंजागरणएप

ਪੰਜਾਬੀਵਿਚਖ਼ਬਰਾਂਪੜ੍ਹਨਲਈਇੱਥੇਕਲਿੱਕਕਰੋ!