शिक्षा वर्तमान सरकार की प्राथमिकता नहीं, बजटीय आवंटन में कटौती से होता है स्पष्ट : कांग्रेस

नयीदिल्ली,16मार्च(भाषा)कांग्रेसनेशिक्षामंत्रालयकेतहतबुनियादीशिक्षासेलेकरउच्चशिक्षाकेस्तरतकबजटीयआवंटनमेंकटौतीकरनेकाआरोपलगातेहुएकहाकिइससेस्पष्टहोताहैकिशिक्षावर्तमानसरकारकीप्राथमिकतामेंनहींहैऔरपर्याप्तआवंटनकेबिनानयीराष्ट्रीयशिक्षानीतिकेलक्ष्योंकोहासिलकरनासंभवनहींहोगा।लोकसभामेंवर्ष2021-22केलिएशिक्षामंत्रालयकेनियंत्रणाधीनअनुदानोंकीमांगोंपरचर्चामेंभागलेतेहुएकांग्रेसकेशशिथरूरनेकहा,‘‘नयीराष्ट्रीयशिक्षानीतिकालक्ष्यएवंबजटीयआवंटनजमीनीसच्चाईसेदूरहैऔरस्तब्धकारीहै।’’उन्होंनेकहाकिजबतकपर्याप्तबजटीयआवंटननहींहोगातबतकराष्ट्रीयशिक्षानीतिकोठीकढंगसेलागूनहींकियाजासकेगा।उन्होंनेकहाकिनयीनीतिमेंशिक्षापरखर्चकोजीडीपीका6प्रतिशतरखागयाहैलेकिनअभीयह2.7प्रतिशतकेकरीबहै।थरूरनेकहाकिस्कूलीशिक्षामेंबजटीयआवंटनको59हजारकरोड़रूपयेसेघटाकरवर्तमानमें54हजारकरोड़रूपयेकियागयाहै।इसप्रकारसे5हजारकरोड़रूपयेकीकटौतीकीगईहै।कांग्रेसनेतानेकहा,‘‘ऐसेसमयमेंजबकोविडमहामारीकेकारणबच्चेप्रभावितहुएहैं,स्कूलबंदहैं,बच्चोंकेबीचमेंपढ़ाईछोड़नेकीदरबढ़ीहै,तबऑनलाइनशिक्षाकेलियेशिक्षकोंकोप्रशिक्षितकियेजानेकीजरूरतहै।इसपरिस्थितिमेंशिक्षाक्षेत्रमेंआवंटनमेंकटौतीचिंताजनकहै।’’उन्होंनेआरोपलगायाकिराष्ट्रीयस्कूलीशिक्षामिशन,समग्रशिक्षाअभियान,माध्यमिकशिक्षाअभियानसहितकईयोजनाओंमेंआवंटनकोनजरंदाजकरनेकाकामकियागयाहै।उन्होंनेकहाकियहइससरकारकीमंशाकोस्पष्टकरताहैकिशिक्षाइसकीप्राथमिकतामेंनहींहै।थरूरनेकहाकिबजटमें100सैनिकस्कूलखोलनेकाप्रस्तावस्वागतयोग्यहैलेकिनपहलेसेदेशमेंमौजूदअनेकसैनिकस्कूलोंकेलियेपर्याप्तआवंटननहींकियागयाहै।उन्होंनेकहाकिसरकारने2035तकउच्चशिक्षाकेक्षेत्रमेंसकलनमांकनदर(जीईआर)को50प्रतिशतकरनेकालक्ष्यरखाहैलेकिनवर्तमान26.5प्रतिशतजीईआरसेइसेकरीबदोगुणाकरनासंभवनहींदिखताहै।उन्होंनेकहाकिसरकारनेजिक्रकियाहैकिछात्रसंगीतकेसाथगणिततकएकसाथपढ़सकतेहैंलेकिनइसकेलियेखर्चकौनवहनकरेगा?क्यास्कूलोंमेंसंगीतवाद्ययंत्रहैं।कांग्रेससदस्यनेकहा,‘‘भाषणमेंयेबातेंकहसकतेहैंलेकिनपैसाकहांसेआयेगा।’’उन्होंनेकहाकिमध्याह्नभोजनयोजनामेंपूराआवंटननहींदियाजानाभीचिंताकाविषयहैक्योंकिजबस्कूलखुलेंगेतबबच्चोंकोस्कूलोंमेंबनायेरखनाचुनौतीपूर्णविषयहोगा।थरूरनेबालिकाओंकेप्रोत्साहनकेलिएसंचालितछात्रवृत्तियोजनासहितअन्यछात्रवृत्तियोजनाओंमेंकटौतीकाभीआरोपलगाया।उन्होंनेकहाकिमहामारीकेकारणऑनलाइनशिक्षाचलरहीहैलेकिनएकरिपोर्टमेंयहबातआईहैकिकाफीसंख्यामेंछात्रोंकोस्मार्टफोन,टैबलेटउपलब्धनहींहैं।सुदूरक्षेत्रोंमेंकरीब20प्रतिशतस्कूलोंमेंहीकम्प्यूटरहैं।ऐसेमेंसरकारकोबजटीयआवंटनबढ़ानाचाहिए।थरूरनेउच्चशिक्षणसंस्थाओंमेंरिक्तपदोंकोभरनेकीभीमांगकी।थरूरनेराष्ट्रीयउच्चतरशिक्षाअभियान(रूसा)मेंअधिकफंडदियेजानेकीमांगकी।