सभी पूर्व प्रधानमंत्रियों की स्मृति में एक बहुत बड़ा आधुनिक संग्रहालय बनाया जाएगा : मोदी

नयीदिल्ली,24जुलाई(भाषा)देशमेंनयेराजनीतिकसंस्कारकीवकालतकरतेहुएप्रधानमंत्रीनरेन्द्रमोदीनेबुधवारकोकहाकिदेशमेंएकजमातनेडा.बीआरअंबेडकर,सरदारवल्लभभाईपटेलजैसीमहानविभूतियोंकी‘‘प्रतिकूलछवि’’गढ़नेकाप्रयासकियाऔरकईपूर्वप्रधानमंत्रियोंकीस्मृतियोंकोमिटानेकाप्रयासकिया।प्रधानमंत्रीनेयहभीकहाकिउन्होंने‘‘ठान’’लियाहैकिदिल्लीमेंसभीपूर्वप्रधानमंत्रियोंकीस्मृतिमेंएकबहुतबड़ाआधुनिकसंग्रहालयबनायाजाएगा।संसदभवनलाइब्रेरीमेंराज्यसभाकेउपसभापतिहरिवंशकीनयीपुस्तक‘‘चंद्रशेखर-दलास्टआइकानऑफआइडियोलॉजिकलपालिटिक्स’’काविमोचनकरनेकेबादप्रधानमंत्रीनेकहाकिआजहमकिसीसेपूछेकिकितनेप्रधानमंत्रीहुए,वेकौनकौनहै..तबकमलोगहीइनकेबारेमेंपूराबतापायेंगे।उन्होंनेकहा,‘‘देशकेइनप्रधानमंत्रियोंकोप्रयत्नपूर्वकभूलादियागयादियागया,जबकिहरकिसीकायोगदानरहा।लेकिनएकजमातहै,कुछलोगहैंजिनकोसभीअधिकारप्राप्तहै,रिजर्वेशनहै।’’मोदीनेकहाकिदेशमेंएकजमातनेडा.अंबेडकर,सरदारपटेलजैसेीमहानविभूतियोंकीप्रतिकूलछविगढ़नेकाप्रयासकिया।उन्होंनेसवालकिया,‘‘लालबहादुरशास्त्रीजीवितलौटकरआतेतोयहीजमातउनकेसाथक्याक्याकरती?उन्होंनेकहाकिएकप्रधानमंत्रीकेबारेमेंकिचर्चाकिगईकिवेक्यापीतेहैं,एकप्रधानमंत्रीकेबारेमेंधारणाबनाईगईकिवेबैठकमेंनींदलेतेहैं।मोदीनेकहा,‘‘आपसबकेआशीर्वादसेमैंनेठानलियाहैकिदिल्लीमेंसभीपूर्वप्रधानमंत्रियोंकीस्मृतिमेंएकबहुतबड़ाआधुनिकसंग्रहालयबनायाजाएगा।’’उन्होंनेइससंदर्भमेंपूर्वप्रधानमंत्रीएचडीदेवेगौड़ा,आईकेगुजराल,चंद्रशेखर,डा.मनमोहनसिंहकाभीजिक्रकिया।उन्होंनेविभिन्नपूर्वप्रधानमंत्रीकेपरिजनों,संबंधियोंएवंमित्रोंसेउनसेजुड़ीचीजोंकोसाझाकरनेकोकहा।चंद्रशेखरकीकिसानपदयात्राकाजिक्रकरतेहुएप्रधानमंत्रीनेकहाकिआजछोटा-मोटाकोईनेताभी10-12किमीकीपदयात्राकरेगा,तो24घंटेखबरोंमेंबनारहेगा।मोदीनेकहा,‘‘चंद्रेशखरजीनेचुनावकेदौराननहीं,बल्किगांव,गरीब,किसानकोध्यानमेंरखकरपदयात्राकी।लेकिनदेशनेउन्हेंजोगौरवदेनाचाहिएथा,वोनहींदिया।हमचूकगए।’’प्रधानमंत्रीनेकहाकिजिससमयकांग्रेसकासिताराचमकताहो,‘‘उससमयवोकौनसीप्रेरणाहोगीकिएकव्यक्तिनेकांग्रेससेबगावतकारास्ताचुनलिया।’’उन्होंनेकहाकिचंद्रशेखरकेविचारोंकोलेकरकिसीकोभीएतराजहोसकताहै।‘‘लेकिनजानबूझकरऔरसोचीसमझीरणनीतिकेतहतचंद्रशेखरकीयात्राकोडोनेशन,करप्शन,पूंजीपतियोंकेपैसे,इससभीकेइर्द-गिर्दरखा।येसबहमेंअखरताहै।’’उन्होंनेकहाकिचंद्रशेखरहमेशाअटलबिहारीवाजेपयीकोहमेशा‘‘गुरुजी’’कहकरबुलातेथेऔरसदनमेंभीअगरबोलतेथेतोपहलेअटलजीसेकहतेथे,‘‘गुरुजीमुझेमाफ़करिये,मैंआजजराआपकीआलोचनाकरूंगा।‘‘इसअवसरपरउपराष्ट्रपतिएमवेंकैयानायडूनेकहाकिचंद्रशेखरसदैवविचार,व्यवहारऔरआचरणमेंमर्यादाकेकायलरहे।वरिष्ठोंऔरसहयोगियोंकेप्रतिआदर,कनिष्ठोंकेप्रतिस्नेहिलसद्भाव,आचरणमेंमर्यादितसौम्यताऔरबराबरीकाव्यवहार,चंद्रशेखरकीजीवनशैलीकीनैसर्गिकप्रवृत्तिरहे।लोकसभाअध्यक्षओमबिरलानेकहाकिचंद्रशेखरऐसेराजनेताथेजिन्होंनेभारतीयराजनीतिकोदिशादीऔरपूराजीवनसमाजवादकोसमर्पितकरदिया।उन्होंनेकहाकिउन्होंनेबदलावकेलियेसंघर्षकियाऔरयुवाओंकेबीचकाफीलोकप्रियरहे।उनकीउम्रकितनीभीहो,उन्हेंहमेशा‘‘युवातुर्क’’कहागया।राज्यसभामेंविपक्षकेनेतागुलामनबीआजादनेकहाकिचंद्रशेखरहमेशादेशकेलियेसोचतेथे।उनकाअपनायारास्तालम्बाथालेकिनउसरास्तेपरचलनेकेलियेउन्होंनेअपनाजीवनसमर्पितकरदिया।आजादनेकहाकिउन्होंनेसमाजवादकानारालगायाऔरआखिरीदमतकउसकेलियेसंघर्षकरतेरहे।