रंगों और पिचकारी से सजे बाजार

संवादसहयोगी,रुद्रप्रयाग:राष्ट्रीयपर्वहोलीकोलेकरजिलामुख्यालयकेसाथहीपूरेजिलेमेंविभिन्नरंगोंएवंपिचकारियोंसेदुकानेंसजगईहैं।लोगबाजारमेंरंगोंकेसाथ-साथगुझियाऔरमिठाईकीखरीदारीकररहेहैं।बच्चोंकीटोलियांभीबाजारमेंघूमकरहोलीकेगीतगातेनजरआरहीहैं।

दोमार्चकोदेशभरमेंहोलीकात्योहारमनायाजाएगा।होलीकेत्योहारकोलेकरलोगोंमेंखासाउत्साहदेखाजारहाहै।इसपर्वकोलेकरबाजारोंमेंभीरौनकदिखरहीहै।रुद्रप्रयागनगरमेंतमामदुकानविभिन्नप्रकारकेरंगों,पिचकारी,गुब्बारेसेसजेनजरआरहेहैं,वहींगुझियाकेसाथहीविभिन्नप्रकारकीमिठाईकोलेकरदुकानेंसजीहुईहैं।गुझियाएवंमावासेबनीमिठाईलोगोंकोअपनीओरआकर्षितकररहीहैं।इसकेसाथहीएकमार्चकोहोनेवालेहोलिकादहनकोलेकरनगररुद्रप्रयागमेंतैयारियांशुरूहोगईहै।विभिन्नप्रकारकेपकवानबनानेकेलिएलोगोंनेसामानखरीदनाभीशुरूकरदियाहै।जिलामुख्यालयकेसाथहीतिलवाड़ा,अगस्त्यमुनि,चंद्रापुरी,भीरी,गुप्तकाशी,ऊखीमठ,फाटा,जखोली,चोपतासमेतकईस्थानोंपरभीहोलीकोलेकरलोगोंमेंखासाउत्साहदेखाजारहाहै।बाजारोंमेंलोगोंकीरौनकदिखनेसेव्यापारीभीकाफीखुशदिखरहेहैं।