राज्यसभा में उठा स्पाइनल मस्क्यूलर बीमारी से पीड़ित बच्चों का मुद्दा, दवा की कीमत है 16 करोड़ रुपये

नईदिल्लीराज्यसभामेंबुधवारकोकांग्रेसकेएकसांसदनेकईबच्चोंकेस्पाइनलमस्क्यूलरबीमारीसेपीड़ितहोनेकामुद्दाउठाया।इसरोगकीदवाकीकीमत16करोड़रुपयेहोनेऔरजरूरतमंदलोगोंतकइसकीदवाकोवाजिबकीमतपरपहुंचानेकेलिएसांसदनेसरकारसेसमुचितउपायकरनेकीमांगकी।शून्यकालमेंकांग्रेसकेसासंदविवेकतन्खानेकहाकिस्पाइनलमस्क्यूलरबीमारीमेंदोसालतककेबच्चेप्रभावितहोतेहैंऔरउनकेचलने-फिरनेमेंपरेशानीहोतीहै।16करोड़रुपयेहैइसकीदवाकीकीमतउन्होंनेकहाकिइसबीमारीकीएकहीदवाहैजोअमेरिकामेंबनतीहैऔरउसकीकीमत16करोड़रुपयेहै।इसकेअलावासातकरोड़रुपयेकाकरभीलगताहै।इसप्रकारकुलकीमत23करोड़रुपयेहोजातीहै।उन्होंनेकहाकिइसबीमारीसेप्रभावितहोनेवालेअधिकतरबच्चेगरीबपरिवारोंसेहोतेहैं।हरसालढाईहजारबच्चोंकोहोतीहैयहबीमारीउन्होंनेकहाकिअपनेदेशमेंहरसालकरीबढाईहजारबच्चेपैदाहोतेहैंजोऐसीपरेशानीसेग्रस्तहोतेहैं।तन्खानेकहाकिअभीहालहीमेंऐसेएकमामलेमेंप्रधानमंत्रीनरेंद्रमोदीनेकरकोमाफकरदियाऔरशेषराशिआमलोगोंसेजुटायीगयी।उन्होंनेदोबच्चोंकेइसबीमारीसेपीड़ितहोनेकाजिक्रकरतेहुएकहाकिउनकेमातापिताकोसमझमेंहींआरहाहैकिउन्हेंकैसेबचायाजाए।सरकारीस्तरपरकीमतकमकरनेकीमांगउन्होंनेसुझावदियाकिसरकारीस्तरपरमोलभावकरदवाकीकीमतकमकीजासकतीहै।इसकेअलावादवापरलगनेवालेकरकोहटायाजासकताहै।उन्होंनेमांगकीकिकेंद्रऔरराज्यकोऐसेबच्चोंकीमददकेलिएएककोषगठितकरनीचाहिए।