राज्यों की आपसी सहमति से अपने घर लौट सकेंगे प्रवासी और श्रमिक : गहलोत

जयपुर,25अप्रैल(भाषा)लॉकडाउनकेकारणविभिन्नराज्योंमेंफंसेप्रवासीनागरिकवश्रमिकराज्योंकीआपसीसहमतिसेचरणबद्धतरीकेसेराजस्थानसेबाहरयाराजस्थानमेंअपनेघरजासकेंगे।मुख्यमंत्रीअशोकगहलोतनेशनिवारकोयहांयहजानकारीदेतेहुएकहाकियेश्रमिकआवश्यकहोनेपरसंबंधितराज्यसरकारसेअनुमतिमिलनेऔरउचितव्यवस्थाओंकेबादहीअपनेगृहस्थानपरपहुंचसकेंगे।उन्होंनेअधिकारियोंसेकहाकिवहऐसेश्रमिकोंकेसुगमआवागमनकेलिएपुख्ताव्यवस्थाएंकरे।गहलोतनेशनिवाररातवीडियोकॉन्फ्रेंसकेजरिएउच्चस्तरीयबैठककोसंबोधितकररहेथे।उन्होंनेकहाकिघरवापसीकेइच्छुकप्रवासियोंवश्रमिकोंकोहैल्पलाइननंबर18001806127,ईमित्रराजस्थानपोर्टल,ई-मित्रमोबाइलएपअथवाई-मित्रकियोस्कपरपंजीकरणकरवानाहोगा।उन्होंनेकहाकिश्रमिकोंकेपंजीकरणकेबादराज्यसरकारसंबंधितराज्यसरकारसेसहमतिप्राप्तकरेगी।पंजीकृतप्रवासीवश्रमिकोंकीसंख्याकेअनुसारउन्हेंकोतयतिथिवसमयपरअपनेघरजानेकीव्यवस्थाउपलब्धकराईजाएगी।गहलोतनेकहाकिजोव्यक्तिअपनेवाहनसेआनाचाहेगाउसेपंजीकरणमेंइसकाउल्लेखकरनाहोगा।कोईभीव्यक्तिअपनीमर्जीसेफिलहालसड़कोंपरनहींनिकलेऔरनहीरवानाहो।उन्होंनेकहाकिकोरोनावायरससंक्रमणसेबचावकेलिएनियतस्थानपरपहुंचनेकेबादप्रवासियोंएवंश्रमिकोंकोपृथक-वासमेंभेजाजाएगा।