राजनीतिक विरोधी अपने हितों के लिए किसान आंदोलन का दुरुपयोग कर हैं : मोदी

नयीदिल्ली,25दिसंबर(भाषा)प्रधानमंत्रीनरेन्द्रमोदीनेशुक्रवारकोतीनकृषिकानूनोंकेखिलाफआंदोलनकररहेकिसानोंऔरसरकारकेबीचजारीगतिरोधकेलिएइसकीआड़मेंराजनीतिकहितसाधनेवालेलोगोंकोदोषीठहराया।उन्होंनेकहाकिन्यूनतमसमर्थनमूल्य(एमएसपी)कोलेकरचिंताओंकीजगहहिंसाकेआरोपियोंकीरिहाईऔरराजमार्गोंकोटोलमुक्तबनानेजैसेअसंबद्धमुद्देइसमेंहावीहोनेलगेहैं।तीनकृषिकानूनोंकोपुरजोरतरीकेसेबचावकरतेहुएमोदीनेकहाकिसरकारउनलोगोंकेसाथभीबातचीतकरनेकोतैयारहैजोअलगविचारधाराकेचलतेसरकारकेखिलाफहैंलेकिनयहबातचीत‘‘तर्कसंगत,तथ्योंऔरमुद्दों’’परआधारितहोनीचाहिये।उन्होंनेदावाकियाकिदेशकेबड़ीसंख्यामेंकिसानोंनेइनतीनकृषिकानूनोंकास्वागतकियाहैऔरवेइसकेफायदेभीउठारहेहैं।उन्होंनेतर्कदियाकिहालकिदिनोंमेंअसम,राजस्थानओरजम्मूएवंकश्मीरसहितविभिन्नराज्योंमेंहुएस्थानीयनिकायकेचुनावोंमेंभाजपाकोजीतमिलीऔरइनचुनावोंमेंभागलेनेवालेमतदातामुख्यत:किसानथे।पूर्वप्रधानमंत्रीअटलबिहारीवाजपेयीकेजन्मदिवसपर‘प्रधानमंत्रीकिसानसम्माननिधि’योजनाकीनयीकिस्तमेंनौकरोड़सेअधिककिसानोंकेलिएऔपचारिकरूपसे18,000करोड़रुपयेकीराशिजारीकरनेकेबादप्रधानमंत्रीमोदीवीडियोकांफ्रेसकेजरिएदेशकेकिसानोंकोसंबोधितकररहेथे।उन्होंनेकहाकिदेशकीजनतानेजिनराजनीतिकदलोंकोनकारदियाहैवेअपनीराजनीतिकरोटियांसेंकनेकेलिएकिसानोंकोगुमराहकररहेहैं।किसानोंकेप्रदर्शनकाजिक्रकरतेहुएमोदीनेकहाकिजबआंदोलनकीशुरुआतहुईथीतबनयेकानूनोंकोलेकरउनकीएमएसपीसहितकुछवाजिबचिंताएंथींलेकिनबादमेंइसमेंराजनीतिकलोगआगएऔरउन्होंनेकिसानोंकेकंधोंपरबंदूकरखकरचलानाआरंभकरदियाऔरअसंबंद्धमुद्दोंकोउठानाआरंभकरदिया।उन्होंनेकहा,‘‘आपनेदेखाहोगाकिजबआंदोलनकीशुरुआतहुईथीतोउनकीमांगएमएसपीगारंटीकीथी।उनकेमुद्देवाजिबथेक्योंकिवेकिसानथे।लेकिनअबइसमेंराजनीतिकविचारधाराकेलोगहावीहोगए।’’उन्होंनेकहा,‘‘एमएसपीवगैरहकोअबकिनारेरखदियागयाहै।अबवहांक्याहोरहाहै।वेहिंसाकेआरोपियोंकीजेलसेरिहाईकीमांगकररहेहैं...वेराजमार्गोंकोटोल-फ्रीकरवानाचाहतेहैं।किसानोंकीमांगसेवहदूसरीमांगोंकीओरक्योंचलेगए?’’उन्होंनेकहा,‘‘ऐसीपरिस्थितिमेंभीदेशभरकेकिसानोंनेकृषिसुधारोंकासमर्थनकियाहै...भरपूरसमर्थनकियाहैऔरस्वागतकियाहै।मैंसभीकिसानोंकाआभारव्यक्तकरताहूंऔरउन्हेंभरोसादिलानाचाहताहूंकिआपकेविश्वासपरहमकोईआंचनहींआनेदेंगे।’’मोदीनेआरोपलगायाकिकिसानोंकेआंदोलनकाइस्तेमालकईअन्यमौजूदानीतियोंकेविरोधकेलिएभीकियाजारहाहै।उल्लेखनीयहैकिहजारोंकीसंख्यामेंकिसानदिल्लीकीविभिन्नसीमाओंपरलगभगएकमहीनेसेइनकानूनोंकेखिलाफप्रदर्शनकररहेहैं।मोदीनेइसअवसरपरपीएम-किसानकेलाभसेपश्चिमबंगालके70लाखसेअधिककिसानोंकोवंचितरखनेकोलेकरमुख्यमंत्रीममताबनर्जीपरजमकरहमलाबोलाऔरआरोपलगायाकिवहराजनीतिककारणोंसेऐसाकररहीहैं।प्रधानमंत्रीनेपश्चिमबंगालमेंकभीबड़ीताकतरहेवामपंथीदलोंपरनिशानासाधाऔरआरोपलगायाकिउनकीराजनीतिकविचारधारानेबंगालको‘‘बर्बाद’’करदिया।उन्होंनेकहाकिबंगालमेंकिसानोंकेअहितपरवेकुछनहींबोलतेलेकिनऔरअबकिसानोंकेनामपरदेशकीअर्थनीतिकोबर्बादकरनेमेंलगेहुएहैं।ज्ञातहोकिपश्चिमबंगालमेंअगलेसालअप्रैल-मईमहीनेमेंविधानसभाकेचुनावहोनेहैंऔरभाजपानेअभीसेवहांअपनाअभियानचलारखाहै।वामपंथीदलोंके34सालकेशासनकाखात्माकरममताबनर्जीकेनेतृत्वमेंतृणमूलकांग्रेसवहां2011सेसत्तापरकाबिजहै।उन्होंनेकहा,‘‘पूरेहिंदुस्तानकेकिसानोंकोइसयोजनाकालाभमिलरहाहै।सभीविचारधाराकीसरकारें,इससेजुड़ीहैंलेकिनलेकिनएकमात्रपश्चिमबंगालहैजहांके70लाखसेअधिककिसानइसयोजनाकेलाभनहींलेपारहेहैं।उनकोयहपैसेनहींमिलपारहेहैं,क्योंकिबंगालकीसरकारअपनेराजनीतिककारणोंसेइसेलागूनहींकररहीहै।’’मोदीनेवामपंथीदलोंपरनिशानासाधतेहुएउनसेसवालकियाकिवेक्योंनहींइसमुद्देपरराज्यसरकारकेखिलाफआंदोलनकररहेहैं।उन्होंनेकहा,‘‘जोलोग30-30सालतकबंगालमेंराजकरतेथे...एकऐसीराजनीतिकविचारधाराकोलेकरकेबंगालकोकहांसेकहांलादियाऔरक्याहालतकरकेरखाहै..सारादेशजानताहै।ममताजीके15सालपुरानेभाषणसुनेंगेतोपताचलेगाकिइसराजनीतिकविचारधारानेबंगालकोकितनाबर्बादकरदियाथा।’’उन्होंनेकहाकिकिसानोंकोदोहजाररुपयामिलनेवालायहकार्यक्रमहैलेकिनइनलोगों(वामदलों)नेबंगालकेअंदरकोईआंदोलननहींचलाया।उन्होंनेकहा,‘‘आपकेदिलमेंकिसानोंकेलिएइतनाप्यारथातो...बंगालआपकीधरतीहै...बंगालमेंकिसानोंकोन्यायदिलानेकेलिए,पीएम-किसानकेपैसेकिसानोंकोमिले,इसकेलिएक्योंआंदोलननहींकिया?क्योंआपनेआवाजनहींउठाई?औरआपवहांसेउठकरपंजाबपहुंचगए।’’उन्होंनेकहा,‘‘स्वार्थकीराजनीतिकरनेवालोंकोजनताबहुतबारीकीसेदेखरहीहै।जोदलपश्चिमबंगालमेंकिसानोंकेअहितपरकुछनहींबोलतेवोदलयहांकिसानकेनामपरदिल्लीकेनागरिकोंकोपरेशानकरनेमेंलगेहुएहैं,देशकीअर्थनीतिकोबर्बादकरनेमेंलगेहुएहैं।’’वामपंथीदलोंकेसाथकांग्रेसपरभीहमलाकरतेहुएमोदीनेकृषिउपजबाजारसमिति(एपीएमसी)मंडियोंकामुद्दाभीउठायाऔरउनपरदोहराचरित्रअपनानेकाआरोपलगाया।उन्होंनेकहा,‘‘जिन्होंनेबंगालकोबर्बादकिया,केरलमेंउनकीसरकारहै।इसकेपहलेजो50साल60सालतकदेशपरराजकरतेथेउनकीसरकारथी।केरलमेंएपीएमसीनहींहैं।मंडियांनहींहैं।केरलमेंआंदोलनकरकेवहांतोएपीएमसीचालूकरवाओ।’’उन्होंनेकहा,‘‘पंजाबकेकिसानोंकोगुमराहकरनेकेलिएआपकेपाससमयहै,केरलकेअंदरयहव्यवस्थानहींहै,अगरयेव्यवस्थाअच्छीहैतोकेरलमेंक्योंनहींहै?क्योंआपदोगलीनीतिलेकरकेचलरहेहो?येकिसतरहकीराजनीतिकररहेहैंजिसमेंकोईतर्कनहींहै,कोईतथ्यनहींहै।’’उन्होंनेकहाकिसिर्फझूठेआरोपलगाकरऔरअफवाहेंफैलाकरयेविपक्षीदल‘‘भोले-भालेकिसानों’’कोगुमराहकररहेहैं।प्रधानमंत्रीनेआरोपलगायाकिविपक्षीदलअखबारोंऔरमीडियामेंजगहबनाकरराजनीतिकमैदानमेंखुदकेजिंदारहनेकीजड़ी-बूटीखोजरहेहैं।उन्होंनेकहा,‘‘लेकिनदेशकाकिसानउसकोपहचानगयाहै।अबदेशकोकिसानउनकोयेजड़ी-बूटीकभीदेनेवालानहींहै।’’उन्होंनेकहा,‘हमगांवोंमेंकिसानोंकेजीवनकोआसानबनारहेहैं।जोलोगआजबड़ेबड़ेभाषणदेरहेहैंजबवहसत्तामेंथेतबउन्होंनेकिसानोंकेलियेकुछनहींकिया।’मोदीनेकहाकिउनकीसरकारनेऔरअधिकफसलोंकोनयूनतमसमर्थनमूल्यकालाभदियाऔरकिसानोंकोरिकार्डधनराशिउपलब्धकराईहै।इसबीच,केंद्रीयमंत्रियोंअमितशाह,राजनाथसिंह,प्रकाशजावड़ेकर,स्मृतिईरानीकेअलावाभाजपाकेअन्यनेताओंनेभीप्रधानमंत्रीकेसंबोधनसेपहलेदेशभरमेंविभिन्नस्थानोंपरकिसानोंकोसंबोधितकिया।किसानोंकेसाथउन्होंनेप्रधानमंत्रीकाभाषणभीसुना।सिंहनेकिसानोंसेअपीलकीकिवेनएकृषिकानूनोंकोएकयादोसालकेलिए‘‘प्रयोग’’केरूपमेंदेखेंऔरअगरउनसेकृषकोंकोफायदानहींहोताहैतोसरकारउनमेंआवश्यकसंशोधनकरेगी।शाहनेकहाकिजबतकनरेन्द्रमोदीदेशकेप्रधानमंत्रीहैंतबतककोईकंपनीकिसानोंसेउनकीजमीननहींछीनसकतीहै।उन्होंनेयहभीकहाकिन्यूनतमसमर्थनमूल्य(एमएसपी)कीव्यवस्थाजारीरहेगीऔरमंडियांबंदनहींहोंगी।ईरानीनेअपनेसंसदीयनिर्वाचनक्षेत्रअमेठीमेंकांग्रेसपरआरोपलगायाकिवहअपनीराजनीतिचमकानेकेलिएनयेकृषिकानूनोंकेबारेमेंकिसानोंमेंभ्रमफैलारहीहै।साथही,उन्होंनेकहाकिकिसाननईतकनीककेजरिएअपनीआमदनीबढ़ानाचाहताहै,जिससेकांग्रेसकोतकलीफहोरहीहै।सितंबरमेंलागूहुएतीनकृषिकानूनोंकेखिलाफहजारोंकिसानकरीबएकमहीनेसेदिल्लीकीसीमाओंपरडटेहुएहैं।येकिसानमुख्यरूपसेपंजाब,हरियाणाऔरउत्तरप्रदेशकेकुछहिस्सोंसेहैं।किसानयूनियनोंऔरसरकारकेबीचकमसेकमपांचदौरकीबातचीतहोचुकीहैलेकिनगतिरोधदूरनहींहोसकाहै।किसानसंगठननएकानूनोंकोवापसलिएजानेकीजिदपरअडिगहैऔरउन्हेंआशंकाहैकिनएकानूनोंसेमंडीऔरन्यूनतमसमर्थनमूल्यव्यवस्थाकमजोरहोगी।उन्हेंयहभीआशंकाहैकिनएकानूनोंसेकार्पोरेटजगतकाप्रभावकाफीबढ़जाएगा।हालांकिसरकारनेइनआशंकाओंकोदूरकरनेकाप्रयासकरतेहुएकहाहैकिऐसीआशंकाएंगलतहैंतथानएकानूनोंकामकसदकिसानोंकीमददकरनाहै।