राजापुर पेयजल योजना बदहाल, लोगों के हलक प्यासे

संवादसहयोगी,राजापुर(चित्रकूट):गोस्वामीतुलसीदासकीजन्मस्थलीराजापुरकेलिए70केदशकमेंपाइपपेयजलयोजनाशुरुकीगईथी।करीबदससालनगरकीकरीब30हजारआबादीकोभरपूरलाभमिलाहैसुबहशामघरकेनलोंमेंखूबपानीआताथाधीरे-धीरेअधिकारियोंकोअनदेखीमेंयोजनाबदहालहोनेलगीऔरआजयदिसुबहपानीआताहैतोशामकोनहींकभी-कभीतोएकभीवक्तपानीलोगोंकोनहींमिलताहै।जबकिनगरमेंइससमयपेयजलआपूर्तिकेलिएआठट्यूबवेललगेहै।वर्ष-2000मेंहुआपुनर्गठन

वर्ष-2000मेंकस्बेकीजलापूर्तिकोसुदृढ़करनेकेलिएपांचकरोड़सेयोजनाकापुनर्गठनकियाथा।एकऔरपानीटंकीबनाईगई।कस्बेमेंपुन:पाइपलाइनडालीगई।आठनएट्यूबवेलभीबनेलेकिनकस्बेमेंएकमीटिगहीजलापूर्तिहोतीहै।बीतीगर्मीमेंअप्रैलसेकस्बेकेलोगत्राहित्राहिकरउठे।जलसंस्थानकेअधिकारियों,प्रशासनवशासनसेलोगोंनेफरियादकीलेकिनआजतकबातनहींबनी।एकसप्ताहकादियाथाभरोसा

लोगोंनेडीएमसेशिकायतकीथीउन्होंनेजलसंस्थानकेअधिशाषीअभियंताकोबुलाकरएकसप्ताहमेंपेयजलआपूर्तिसुचारुकरनेकेनिर्देशदिएथे।एसडीएमराजापुरकोपेयजलकीमानीटरिगकरनेकोकहाथा।लेकिनएकसप्ताहकीअवधिबीतचुकीहै।कस्बेकेदेविनटोला,पुरानीबस्ती,अनजहाई,रुपौलिहाटोला,चिकहाई,स्मारकरोडसहितकस्बेकी75प्रतिशतआबादीबूंदबूंदपानीकोतरसरहीहै।इनकाकहनाहै

'राजापुरडाकबंगलाकेपासछहमाहसेमुख्यपाइपलाइनटूटीपड़ीहैपानीसे100मीटरसड़कगड्ढोंमेंबदलगईहै।'मुन्नूधतुरहा(स्थानीय)'योजनामेंजगह-जगहलीकेजहैकोईठीककरनेवालानहींहैजिसकाखामियाजानगरवासियोंकोउठानापड़रहाहै।'जयनारायणद्विवेदी(स्थानीय)'जलसंस्थानकेजेईसहितसभीअधिकारीजिलामुख्यालयमेंरहतेहैयहांपरकोईदेखनेवालानहींहै।'अरुणकुमारपांडेय(स्थानीय)'विभागकेपासबजटकाअभावहैफिरभीवहयोजनाकीगड़बड़ियोंकोठीककरारहेहै।जल्दहीपेयजलआपूर्तिमेंसुधारदेनेकोमिलेगा।'एसकेनिरंजन-अधिशाषीअभियंताजलसंस्था