पी चिदंबरम- हम NIA बिल के खिलाफ नहीं बल्कि आतंकी बताने वाले संशोधन के खिलाफ हैं

नईदिल्ली:कांग्रेसकेनेतापीचिदंबरममेंराज्यसभामेंएनआईएकोज्यादाअधिकारदेनेवालेबिलकोलेकरअपनीबातरखी।उन्होंनेकहाकियदिआपएनआईएबिलकेसंशोधनकोदेखतेहैंतोयेकहताहैकिराष्ट्रीयजांचएजेंसी(एनआईए)कोमजबूतकियाजारहाहै।येबिलकिसीभीव्यक्तिकोआतंकीघोषितकरनेऔरउसेहटानेकाअधिकाररखताहै।येएकशरारतहैऔरइसीवजहसेहमसंशोधनकाविरोधकररहेहैं।

उन्होंनेआगेकहाकिहम(कांग्रेस)संशोधनकाविरोधकररहेहैंनाकिगैरकानूनीगतिविधियों(रोकथाम)अधिनियमका।उन्होंनेकहाकिजबमैंनेसाल2008मेंकेंद्रीयगृहमंत्रीकापदसंभालाथा।मैंनेकहाथाकिआतंकवादविरोधीबिलतीनपैरोंपरखड़ाहै।एकएनआईए,एकएनएटीजीआरआईडीहैऔरएकएनसीटीसीहै।आजहमारेपासएकपैरहै।आपनेएनएटीजीआरआईडीऔरएनसीटीसीकेबारेमेंक्याकियाहै?वेसीमितक्योंहैं?

वहींकांग्रेसकेनेतादिग्विजयसिंहनेकहाकिहमें(कांग्रेस)कोबीजेपीकेइरादेपरसंदेहहै।कांग्रेसनेआतंकवादसेकभीसमझौतानहींकिया।इसीवजहसेहमकानूनलेकरआएथे।बीजेपीपरनिशानासाधतेहुएउन्होंनेकहाआप(बीजेपी)वोहैंजिन्होंनेआतंकवादपरसमझौतेकिया।एकबाररूबियासईदजीकोरिहाकरकेऔरएकबारमसूदअजहरकोछोड़कर।

गौरतलबहैकियूएपीएबिललोकसभाऔरराज्यसभामेंइसीसत्रमेंपासहोगयाहै।गौरतलबहैकिमुंबईआतंकीहमलोंकेबादसाल2009मेंयूपीएसरकारनेराष्ट्रीयजांचएजेसीकागठनकियाथा।एनआईएविधेयकमेंमौजूदासंशोधनकेबादगैरकानूनीगतिविधियां(रोकथाम)कानूनकीअनुसूचीचारमेंसंशोधनसेएनआईएउसव्यक्तिकोआतंकवादीघोषितकरपाएगीजिसकाआतंकसेसंबंधहोनेकाशकहो।

येभीपढ़ें-जम्मूकश्मीरमें25000अतिरिक्तजवानोंकीतैनाती,लंगरबंद,धार्मिकस्थलोंकीसुरक्षाहटी