पांच लाख करोड़ डालर की अर्थव्यवस्था के लिए एसएमई सेक्टर को देना होगा महत्व: डा कृष्ण गोपाल

नईदिल्ली,जागरणसंवाददाता।राष्ट्रीयस्वयंसेवकसंघकेसहसरकार्यवाहडा.कृष्णगोपालनेकहाकिदेशकीअर्थव्यवस्थाकोपांचलाखकरोड़डालरकाआकारदेनेकेलिएसूक्ष्म,लघुवमध्यमउद्योग(एमएसएमइ)कोऔररोजगारपरकबनानाहोगा।वर्तमानमेंइसक्षेत्रनेकोई11करोड़लोगोंकोरोजगारदियाहै।इसकादेशकेसकलघरेलूउत्पाद(जीडीपी)मेंयोगदान20फीसदहै,जबकिकृषिपरअभीभीदेशकी50फीसदजनसंख्याआश्रितहैतोभीउसकाजीडीपीमेंमात्र15फीसदहै।

उन्होंनेकहाकिअर्थव्यवस्थाकोउसलक्ष्यतकपहुंचनेकेलिएचार-पांचसालोंमेंएमएसएमइक्षेत्रमेंचार-पांचकरोड़औरनएरोजगारपैदाकरनेहोंगे।वहदीनदयालउपाध्यायमार्गस्थितलघुउद्योगभारतीकेनवनिर्मितमुख्यालय"श्रीविश्वकर्माभवन'केलोकापर्णअवसरकोसंबोधितकररहेथे।इसमौकेपरकेंद्रीयएमएसएमइमंत्रीनारायणराणेवसंसदीयकार्यराज्यमंत्रीअर्जुनराममेघवालकीभीमौजूदगीरहीं।डा.कृष्णगोपालनेकहाकिसरकारकृषिपररोजगारकीनिर्भरताकमकरनेतथागांवतकउद्योगपहुंचानेकोलेकरप्रयासरतहै।इसस्थितिमेंकुशललोगोंकोतैयारकरनेमेंलघुउद्योगभारतीबड़ायोगदानदेसकतीहै।उन्होंनेकहाकिदिल्लीके60से70किमीकेदायरेमें15से20हजारउद्योगहै।इसीतरहसेयहांअच्छीखासीसंख्यामेंव्यवसायिकशिक्षाकेकेंद्रआइआइटी,एनएसआटीवतकनीकीविश्वविद्यालयहैं।अच्छेप्रोफेसर,विशेषज्ञवछात्रहैं।

उन्होंनेकहाकियहभवनविशेषज्ञोंऔरउद्योगोंवअलग-अलगउद्योगसेजुड़ेलोगोंकोएकमंचपरलानेकेसाथदेशकेउत्पादोंकीवैश्विकपटलपरअसरदारमौजूदगीकीतैयारीमेंभीबड़ायोगदानदेसकताहै।उन्होंनेइसभवनमेंउद्योगआधारितलाइब्रेरीस्थापितकरनेपरभीजोरदिया।केंद्रीयमंत्रीनारायणराणेनेकहाकिदेशकोप्रगतिकेरास्तेपरलेजानेकेजीडीपीमेंएमएसएमइकेयोगदानकोबढ़ाकर50से60फीसदतकलेजानेकीआवश्यकताहै।इसकेलिएकेंद्रसरकारस्थान,धनऔरतकनीकीमुहैयाकरारहीहै।

अर्जुनराममेघवालनेकहाकिआनेवालेसमयमेंयहमुख्यालयदेशकेउद्योगजगतकाबड़ाकेंद्रबननेवालाहै।यहांसेबेहतरसुझावऔरप्रस्तावनिकलेंगे,जोदेशकीआर्थिकगतिकोऔरबढ़ाएंगे।उन्होंनेकहाकिआजादीकेअमृतमहोत्सवमेंलघुउद्योगकोभीजोड़ागयाहै।इसअवसरपरलघुउद्योगभारतीकेअध्यक्षबलदेवभाईप्रजापतिसमेतसंगठनकेप्रमुखराष्ट्रीयवप्रदेशकेपदाधिकारीमौजूदरहे।मंचकासंचालनलघुउद्योगभारतीकेराष्ट्रीयसचिवसम्पततोषनीवालनेकिया।

क्याहैभवन: सूक्ष्मवलघुउद्योगकेलिएकामकरतीलघुउद्योगभारतीदेशकीबड़ीऔद्योगिकसंगठनहै।इसकादेशके450जिलोंमेंनेटवर्कहै।इसकायहमुख्यालयछहसौवर्गमीटरमेंबनाहै।निर्माणकामवर्ष2018मेंशुरूहुआ।इसमेंएककांफ्रेसहालऔरछोटे-छोटेबैठककक्षहै।इसमेंगोष्ठियां,बैठकवप्रदर्शनीआयोजितहाेतीरहेंगी।जोदेशकेउद्योगजगतकेलिएमहत्वपूर्णहोंगी।उद्योगआधारितलाइब्रेरीवई-लाइब्रेरीकेसाथकौशलविकासकेंद्रभीहोगा।