ऑनलाइन माध्यम से घर बैठे शिक्षा पाना हुआ आसान : राव

जागरणसंवाददाता,कुरुक्षेत्र:इंदिरागांधीराष्ट्रीयमुक्तविश्वविद्यालयकेकुलपतिप्रो.नागेश्वररावनेकहाकिऑनलाइनमाध्यमसेघरबैठेशिक्षापानाआसानहोगयाहै।उन्होंनेबतायाकि2017सेहीस्वयंप्रभाकेअंतर्गत35टीवीचैनलोंकेमाध्यमसेघरबैठेशिक्षाकोप्रोत्साहनदियागयाहै।सरकारनेकोरोनाकालसेपहलेहीघरबैठेशिक्षापानेकाद्वारसभीकेलिएखोलदियाथा।अभीतक2करोड़लोगोंनेइसमेंपंजीकरणकियाहै।इसमेंसे5से6लाखलोगविदेशोंमेंबैठकरइससुविधासेशिक्षाग्रहणकररहेहैं।वहशनिवारकोविद्याभारतीसंस्कृतिशिक्षासंस्थानकीओरसेभारतीयपरिवेशकेसंदर्भमेंराष्ट्रीयशिक्षानीतिविषयपरआयोजितऑनलाइनव्याख्यानमेंसंबोधितकररहेथे।उन्होंनेकहाकिपहलेयहपाठ्यक्रमकेवलअंग्रेजीमेंहोतेथेअबइसकाआठभाषाओंमेंअनुवादशुरूकरदियागयाहै।उन्होंनेकहाकिनईशिक्षानीतिमेंबी.कामपढ़नेवालाविद्यार्थीइसकेसाथ-साथकृषि,राजनीतिविज्ञान,समाजशास्त्रकाभीअध्ययनकरसकताहै।सरकारनेइसकेक्रियान्वयनकेलिए2016सेस्वयंपोर्टलकीस्थापनाकीहै।इसमें3000सेअधिकपाठ्यक्रमहैं।उन्होंनेकहाकिनईशिक्षानीतिकेमाध्यमसेकल्पनाशक्तिकोपानेकारास्ताबतायागयाहै।नईशिक्षानीतिमेंअगरकोईविद्यार्थीकिसीकारणअपनीपढ़ाईपूर्णनहींकरपाताहैतोउसकापरिश्रमविफलनहोइसकाभीविशेषध्यानरखागयाहै।उन्होंनेकहाकिविद्यार्थीनेजोअध्ययनकियाहैउसकारिकार्डसरकारकेपासभीरहेइसदिशामेंभीप्रयासचलरहेहैं।संस्थानकेनिदेशकडा.रामेंद्रसिंहनेवक्ताएवंदेशभरसेजुड़ेसभीश्रोताओंकाआभारजताया।