नीतीश ने जलजमाव को लेकर सवाल पूछने पर पत्रकारों की भाषा पर सवाल उठाया

पटना,दोअक्टूबर(भाषा)बिहारकेमुख्यमंत्रीनीतीशकुमारनेजलजमावकोलेकरमंलगवारकीरातपत्रकारोंद्वारापूछेगएप्रश्नोंकीभाषापरबुधवारकोसवालउठातेहुएकहा,‘आपसमाजकोकहांलेजानाचाहतेहैं।’पटनाकेज्ञानभवनमेंमहात्मागांधीकी150वींजयंतीकेअवसरपरआयोजित"गांधीविचारसमागम"कोसंबोधितकरतेहुएनीतीशपत्रकारोंकीभाषाकोलेकरव्यंग्यकियाऔरकहा,‘‘गजबकाहिसाबहोगयाहै,हमारेमीडियावाले...हमसबकोप्रणामकरतेहैं।क्याक्यालैंगवेज(भाषा)हैभाई...।मंगलवाररातपटनाशहरकेजलमग्नइलाकोंमेंपैदलचलकरपानीनिकासीकानिरीक्षणकरनेकाजिक्रकरतेहुएनीतीशनेकहा''एककार्यक्रममेंपहुंचेतोवहांदेखाकिभारीसंख्यामें(पत्रकार)पहुंचेहुएहैं।हमतोसबकोपहचानतेभीनहींहैं।कहांकहांसेभेजदेताहै।चिल्लाचिल्लाकर...।इसकाक्यालाभहोनेवालाहै।कहांलेजानाचाहतेहैंसमाजको।किसतरहकीभाषाकाप्रयोगकरतेहैं।आपकोकोईभ्रमहैक्या?आपकीभाषाकेप्रयोगकरनेसेकुछहोताहैक्या?कुछनहींहोताहै।’’उन्होंनेकहाकिजनहितमेंऔरजनताकेहितमेंजोकामकियाजाताहैहमउसकेलिएपूरीतरहसेसमर्पितहैं।हमकोईप्रचारकेलिएसमर्पितनहींहैं।जितनीमेरीआलोचनाकरनीहो,खूबमनसेकरिएलेकिनजराभाईसमाजकाभीख्यालरखिए।मंगलवारकीरातजलजमावकोलेकरपत्रकारोंकेसवालपरनीतीशनेकहा,''पूरीबातकोसमझिएऔरबिनासमझेबिनामतलबकीबातनहींकरनीचाहिए।प्रकृतिकेकारणऐसीस्थितिआयीहै।’’