नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया बोले-अगले एक दशक में हवाई यात्रा क्षेत्र में भारत के पास शीर्ष पर पहुंचने की क्षमता

राज्यब्यूरो,कोलकाताःनागरिकउड्डयनमंत्रीज्योतिरादित्यसिंधियानेबुधवारकोकहाकिभारतमेंलगभगएकदशकमेंहवाईयात्रामेंशीर्षपरपहुंचनेकीक्षमताहै।उन्होंनेविमाननक्षेत्रकोनईऊंचाइयोंपरलेजानेकेलिएसरकारकीप्रतिबद्धताकोरेखांकितकिया।उन्होंनेकोलकाताकेइंडियनचैंबरआफकामर्सकीओरसेआयोजितकार्यक्रमकोवर्चुलसंबोधितकरतेहुएकहाकिसरकारक्षेत्रीयऔरलंबीदूरीकेअंतरराष्ट्रीयमार्गोंपर‘कनेक्टिविटी’मेंसुधारकेलिएप्रतिबद्धहै।सिंधियानेबतायाकिसरकारने2025तकहवाईअड्डोंकीसंख्यामौजूदाके136सेबढ़ाकर220तकपहुंचानेकालक्ष्यरखाहै।

सिंधियानेकहाकि70वर्षमें74हवाईअड्डेबनेथे।हमनेपिछलेसातसालमें62औरहवाईअड्डेबनाएहैं।अबहमारेपास136हवाईअड्डेहैं।लेकिनयहींपरहमरुकनेवालेनहींहैं।हमारालक्ष्य2025तककुल220हवाईअड्डोंतकपहुंचनेकाहैऔरइसमेंहेलीपोर्टऔरवाटरपोर्टभीशामिलहैं।हमारेसामनेबहुतकार्यहैं,जिन्हेंपूराकरनाहै।कलहमजेवरहवाईअड्डे(नोएडाकेपास)काशुभारंभकरनेजारहेहैं।उन्होंनेकहाकिसंपर्कऔरयात्राकेलिएएकनयाबाजारखुलगयाहै,नागरविमाननक्षेत्रमेंअबविकासकोदूसरीऔरतीसरीश्रेणीकेशहरोंद्वारासंचालितकियाजाएगा।पहलीश्रेणीकेशहरअपनीपरिपक्वतातकपहुंचचुकेहैं।मंत्रीनेकहाकिज्यादातरमहानगरोंकोदूसरेहवाईअड्डेकीजरूरतहै।

सरकारकोलकातामेंएकऔरहवाईअड्डाकेलिएस्थानतलाशरहीहै

सिंधियानेसभीमेट्रोशहरोंमेंनएहवाईअड्डोंकीजरूरतपरजोरदेतेहुएबुधवारकोकहाकिसरकारकोलकातामेंदूसरेहवाईअड्डेकेलिएजगहतलाशरहीहै।सिंधियानेइंडियनचैंबरआफकामर्सकेएकवार्षिकसत्रकोसंबोधितकरतेहुएमुख्यमंत्रीममताबनर्जीसेआगेआनेऔरदेशमेंनागरिकउड्डयनक्षेत्रमेंमौजूद‘विशाल’अवसरोंमेंहिस्सालेनेकाभीआग्रहकिया।उद्योगनिकायकीवार्षिकआमसभा(एजीएम)मेंउन्होंनेकहाकिदेशकेमहानगरोंकेहवाईअड्डोंपरयात्रियोंकादबावबहुतअधिकहै।

उन्होंनेकहाकिदिल्लीमें7.5करोड़यात्री,तोमुंबईमेंकरीबपांचकरोड़,बेंगलुरुमेंचारकरोड़औरहैदराबादमेंढाईकरोड़यात्रियोंकादबावहोताहै।उन्होंनेकहाकिमेरामाननाहैकिदेशकेसभीमहानगरोंमेंनयेहवाईअड्डेकीजरुरतहै।केंद्रीयमंत्रीनेकहाकिदिल्लीऔरमुंबईमेंनएहवाईअड्डेकेनिर्माणकीप्रक्रियापहलेसेहीजारीहै,लेकिनकोलकातासहितअन्यनगरोंमेंभीहवाईअड्डेबनानेकीजरूरतहै।

सिंधियानेकहाकिमैंबंगालकीमुख्यमंत्रीसेबातकरनेकाप्रयासकररहाहूं,साथउनमुद्दोंपरभीविचारकररहाहूंजोबंगालसेसंबंधितहैं,क्योंकियहदेशकेपूर्वोत्तरऔरदक्षिण-पूर्वहिस्सोंमेंसामरिकगतिविधियोंकीदृष्टिसेप्रमुखकारकहै।