मुंबई के पूर्व तेज गेंदबाज राजेश वर्मा का हार्ट अटैक से निधन, 2006-07 में रणजी विजेता टीम के हिस्सा थे

नईदिल्ली,आनलाइनडेस्क। मुंबईक्रिकेटकम्यूनिटीकोरविवारकोउसवक्तबड़ाझटकालगाजब2006-07रणजीविजेताटीमकेसदस्यरहेराजेशवर्माकादिलकादौड़ापड़नेसेनिधनहोगयाहै।वेमहज40सालकेथे।उन्होंनेअपनेनिवासस्थानजोकिथानेमेंस्थितहैअंतिमसांसली।उन्होंने2002-02सेलेकर2008-09सीजनतक7फर्स्टक्लासमैचखेलेऔरउऩकेखातेमें23विकेटदर्जहैंजिसमेंएकबारउन्होंने5विकेटभीलिएथे।

इसकेअलावाउन्होंने11लिस्टएमैचमें20विकेटहासिलकिए।टी20क्रिकेटकीबातकरेंतोउन्होंने4टी20मैचखेलेऔरउसमेंविकेटहासिलकिए।उनकेनिधनपरमुंबईक्रिकेटएसोसिएशननेट्विटरकेमाध्यमसेशोकजतायाहै।एमसीएकेद्वाराट्विटकरलिखागयाहैकिमुंबईक्रिकेटसंघश्रीराजेशवर्माकेनिधनकेबारेमेंसुनकरबेहददुखीहै।हमएमसीएकेशीर्षपरिषदसदस्यों,सभीक्लबसदस्योंऔरपूरीक्रिकेटबिरादरीकीओरसेउनकेनिधनपरशोकव्यक्तकरतेहैं।उनकेसाथीखिलाड़ीभाविनठक्करनेदुखव्यक्तकरतेहुएकहाकिमैंबेहददुखीहूंहमनेअंडर-19सेलेकरअपनीक्रिकेटजर्नीएकसाथबिताई।20दिनपहलेवेबीपीसीएलदौरेकेलिएमेरेसाथथे।

भारतकेपूर्वबल्लेबाजजतिनपरांजपेनेअपनीप्रतिक्रियादेतेहुएकहाकि"येबहुददुखदसमाचारहै।वेएकबेहतरीनगेंदबाजथे।वेगेंदोंकोस्विंगकरासकतेथे।उन्होंनेपुरानीदिनोंकोयादकरतेहुएकहाकिउनकेपितावडालाकेस्कूलमेंवड़ापावबेचतेथे।वेमेरेपासआएऔरकहावहअच्छागेंदबाजहैलेकिनउसेकहींसेखेलनेकामौकानहींमिलरहाहै।वह'एफ'डिवीजनमेंमाटुंगाजिमखानाकेलिएखेलतेथे,जहांसेमैंउन्हेंएडिवीजनमेंसीसीआईकेलिएखेलनेकेलिएलेगया।उन्होंनेवहांकेसभीबल्लेबाजोंकोपरेशानकियाऔरउससालहमनेअपनीकप्तानीमेंपांचखिताबजीते"