मकर संक्रांति को लेकर रौनक,जमकर की खरीदारी

मुसाबनी:झारखंडकासबसेबड़ात्योहारमकरजैसे-जैसेनजदीकआरहाहैउसकीतैयारीलोगोंनेशुरूकरदी।मकरपर्वकोलेकरबाजारोंमेंखरीदारोंकीभीड़बढ़तीजारहीहै।मुसाबनीबाजारमेंरविवारकोहाटबाजारकेदिनहोनेकेकारणलोगोंकीभारीभीड़देखनेकोमिली।रविवारकोमकरकामुख्यहाटथा।ग्रामीणोंकीकाफीभीड़बाजारमेंदेखनेकोमिली।ग्रामीणक्षेत्रकेलोगोंनेकपड़े,मिट्टीकेबर्तन,पीठाबनानेकेसामान,खाद्यान्नसामग्रीकीखरीदारीकी।बाजारमेंमिट्टीकेबर्तनकीबिक्रीपिछलेवर्षकीअपेक्षाइसवर्षअधिकहोरहीहै।धानकीअच्छीफसलहोनेसेइसवर्षकेमकरमेंउमंगदेखाजारहाहै।मिट्टीबर्तनविक्रेताराजेंद्रप्रसाद,बबलूप्रसादआदिनेबतायाकिमकरकोलेकरलोगमिट्टीकेबनेबर्तनखरीदरहेहैं।अभीबुधवारबाजारकेदिनपरहमलोगोंकीउम्मीदलगीहै।मिट्टीकीहांड़ी70से90रुपये,हारना80से100रुपयाऔरछोटाहांड़ी40से50रुपयाबिकरहाहै।मकरमेंमिट्टीकेनएबर्तनमेंहींपकवानबनायाजाताहै।जिसकेकारणलोगखरीदारीकरतेहैं।मकरसक्रांतिकोलेकरकपड़ेव्यापारीअपनीदुकानमुसाबनीमेंपहुंचगएहैं।ग्राहकोंकीभीड़खासकरकपड़ोंऔरखाद्यान्नोंकीदुकानोंअधिकदिखरही।लोगोंमेंपर्वकीखरीदारीकोलेकरउत्साहऔरउमंगदिखाईपड़ा।बड़ेदुकानोंकेसाथहीफुटपाथपरलगीदुकानोंमेंभीभीड़देखनेकोमिलरहीहै।कोईकपड़ोंकोपसंदकरतादिखा,तोकोईजूता-चप्पलोंकीखरीदारीमेंमशगूलरहा।महिलाओंऔरयुवतियोंकीज्यादाभीड़विशेषकरश्रृंगारप्रसाधनोंकीदुकानपरदेखीजारहीहै।खाद्यान्नोंमेंलोगगुड़,चीनी,तिल,तेल,चूड़ा,अरवाचावलआदिभीबड़ेउत्साहपूर्वकखरीदतेदेखेगए।बाजारमेंफुटपाथीदुकानोंकीसंख्याकेसाथग्राहकोंमेंबढ़ोत्तरीमकरपर्वकीअहमियतऔरलोकप्रियताकोदर्शाताहै।पर्वपरनएवस्त्रधारणकरनेकीहैपरंपरावैसेतोमकरसक्रांतिपूरेझारखंडमेंजोरशोरसेमनायाजाताहै,परग्रामीणजिलेमेंमकरकीधूमऔररौनककुछऔरहीहोतीहै।पर्वपरलोगस्नानकरनएवस्त्रधारणकरतेहैं।टुसूकीपूजाअर्चनाकरपीठाखातेऔरसालोंभरअपनेवेक्षेत्रकीसुख-समृद्धिकीकामनाकरतेहैं।सालोंभरघरसेबाहररहनेवालेलोगभीमकरपरकुछकमाकरघरलौटतेहैऔरअपनेपरिवारकेसदस्योंकेलिएकपड़ेआदिखरीदतेहैं।बाजारमेंमकरपर्वकोलेकररौनकबढ़गईहै।