महापर्व छठ को ले सज गए घाट, संवर गए रास्ते

सीतामढ़ी।लोकआस्थाकामहापर्वकोलेकरपूरावातावरणछठमयहोचुकाहै।गली-मोहल्लोंसेलेकरबाजारतकहरजगहबसछठकीचर्चा,छठकेगीतऔरछठपूजनसेसंबंधितसामग्रीमेंलोगजुटेहैं।वहीं,व्रतियोंद्वारामंगलवारकोअस्ताचलगामीएवंबुधवारकोउदीयमानसूर्यकोअ‌र्घ्यदेनेकोलेजगह-जगहनदी,पोखरकेकिनारेघाटोंकानिर्माणकियाजारहाहै।यहकार्यपिछलेकईदिनोंसेयुद्धस्तरपरचलरहाहै।इसमेंप्रशासनकेअलावास्वयंसेवीसंस्थाओंएवंव्रतीकेपरिवारकेलोगभीजुटेहैं।छठकोलेकरशहरकेलखनदेईनदीकेकिनारेविभिन्नजगहोंपरघाटबनाकरउन्हेंसजानेकाकार्यजारीहै।वहीं,घाटतकजानेवालीसड़कोंकोसाफ-सुथराकरसंवारदियागयाहै।घाटोंपररोशनीकीव्यवस्थाभीकीगईहै।गली-मोहल्लोंसेलेकरघाटतकजानेवालेरास्तोंकीविशेषसफाईकीजारहीहै।इनरास्तोंमेंरोशनीकीव्यवस्थाभीकीगईहै।लखनदेईपुलकेदोनोंओरनदीकेकिनारेघाटोंकोअंतिमरूपदेकरसजायाजारहाहै।इसकेअलावारेलपुलकेनीचे,सीतासेतुकेनिकट,जानकीमंदिरपरिसरस्थितउर्विजाकुंड,रीगारोडस्थितमाईजीकेपोखर,पुनौराधामस्थितसीताकुंड,जिलामुख्यालयडुमरास्थितकैलाशपुरीघाट,बड़ीबाजारघाटकीसाफ-सफाईकरसजानेकाकामशुरूहोगयाहै।इसकेअलावाकईमोहल्लोंमेंसामूहिकरूपसेछठपर्वकोलेकरकृत्रिमपोखरबनायागयाहै।जहांव्रतीअ‌र्घ्यदेंगे।कईलोगघरोंकीछतपरभीछोटे-छोटेकृत्रिमपोखरकानिर्माणकरचुकेहैं।मालूमहोकिबीतेकईसालसेशहरकीलखनदेईनदीमेंजलप्रवाहकमहोनेकेकारणइसमेंबालूकीजगहकीचड़औरगंदगीकेकारणव्रतीअपनेघरकेआसपासएवंछतपरकृत्रिमपोखरकानिर्माणकरअ‌र्घ्यदेतेहैं।नदीमेंजलप्रवाहकमहोनेकेकारणपिछलेकुछसालसेप्रशासनद्वाराछठकेमौकेपरनदीमेंजगह-जगहअस्थायीछोटेबांधबनाकरनदीमेंपंपसेटसेपानीभराजाताहै।ताकिव्रतियोंकोपरेशानीनहो।छठ:नपंकेअध्यक्षनेलियाघाटोंकाजायजा

सुरसंड(सीतामढ़ी)संस:नगरमेंछठपर्वकोलेकरसोमवारकोसुरसंडनगरपंचायतद्वारानगरपंचायतस्थितविभिन्नपोखरतालाबवनदियोंकीसाफसफाईकीजारहीहै।घाटकानिरीक्षणकरतेहुएनगरअध्यक्षओमप्रकाशउर्फराजू,उपाध्यक्षकुंदनकुमार,वार्डपार्षदउमाशंकररायसहितअन्यकईलोगमौजूदथे।

छठ:छठव्रतियोंकेबीचवस्त्रकावितरण

बथनाहा(सीतामढ़ी)संस:लोकआस्थाकेमहापर्वछठकेअवसरपरजिलापार्षदममतादेवीनेसोमवारकोभगवानपुरगांवस्थितअपनेआवासपरअपनेक्षेत्रकेदलित,महादलितबस्तीकेगरीबअसहायवविधवा250छठव्रतियोंकेबीचसाड़ीकावितरणकियागया।जिलापार्षदनेकहाकिअसहायकीसेवाहीसबसेबड़ीसेवाहै।मौकेपरजयनारायणमहतोएवंचंदेश्वरमहतोसहितअन्यकईग्रामीणउपस्थितथे।