मधुबनी के पंडौल में कन्या विवाह योजना के लाभ के लिए आठ वर्षों से टकटकी

मधुबनी(पंडौल),जासं।गरीबपरिवारोंकोबेटीकीशादीमेंपरेशानीनहींहोइसकेलिएसरकारकन्याविवाहयोजनाकेतहतमदददेतीहै।लेकिन,प्रखंडकेतीनहजारसेअधिकलाभुकइसकेलाभकेलिएवर्षोंसेइंतजारकररहेहैं।ऐसेलाभुकपिछलेआठवर्षोसेयोजनाकालाभपानेकेलिएकार्यालयकेचक्करकाटरहेहैं।

कन्याविवाहयोजनाअंतर्गतनवविवाहितोंकोपांचहजाररुपयेकीआर्थिकसहायतासरकारकीओरसेदिएजानेकाप्रावधानहै।प्रखंडमुखियामहासंघकेनिवर्तमानप्रखंडअध्यक्षरामकुमारयादवनेबतायाकिउनकेयहांएकदर्जनकेआसपासलाभुकहैं,जिन्होंनेछहसालपूर्वआवेदनकियाऔरआजभीउनकोलाभकाइंतजारहै।

आवंटनपरभारीपड़रहाआवेदन

योजनाकेशुरुआतीदिनोंसेहीविडंबनारहीहैकिप्रखंडमेंजिसअनुपातसेनिबंधनआताहै,उसअनुपातमेंराशिउपलब्धनहींकराईजातीहै।परिणामहोताहैकिइसराशिकोपाते-पातेवर्षोंगुजरजातेहैं।वर्तमानमेंवर्ष2011-12सेकन्याओंकाभुगतानआवंटनकेअभावमेंलंबितहै।चूंकि,ऑनलाईनप्रक्रियासेपूर्वलाभुकोंकोचेककेमाध्यमसेभुगतानकियाजाताथा।राशिआवंटनकेअभावमेंअबतकलगभग3300लाभुकउक्तलाभसेवंचितचलरहेहैं।ऑनलाइनभुगतानप्रक्रियाहोनेकेबादवर्ष2019-20मेंलगभग62लाभुकोंकासीधेउनकेखातेमेंआरटीजीएसकेमाध्यमसेभुगतानहुआथा।वर्ष2020-21केकोरोनाकालमेंकार्यबाधितरहा।वर्ष2021-22मेंअबतकलगभगचारदर्जनआवेदनआचुकेहैं,जिसमेंसेदोदर्जनलाभुकोंकाऑनलाइनअपलोडहोचुकाहै।वर्तमानहालातयहहैकिप्रखंडमेंअबसिर्फनिबंधनकियाजाताहै।राशिसीधेलाभुकोंकेखातेमेंडालीजातीहै। लापरवाहीकेचलतेलाभुकोंकोयोजनाकालाभलेेनेमेंहोरहीपरेशानी।