मां की ममता व छांव सबसे निराली

संतकबीरनगर:मदर्सडेपरमांकीममतावसमर्पणकोउत्सवोंकेबीचयादकियागया।अपनेमांकेआशीर्वादकेसाथकईलोगोंनेजहांअपनेदिनकीशुरूआतकीवहींबहुतेरोंनेअपनेसंदेशोंकेमाध्यमसेसेमांकेसाथगुजरेवक्तोंकोयादकिया।यहकहाजाताहैकिमांतोमांहोतीहै।उसकेसामनेबच्चाकितनीभीउम्रकाहोपरंतुवनौनिहालहीदिखताहै।मांदेवीहोतीहै,इसेदेवताओंनेभीमानाहै।धन्यऔरसौभाग्यशालीहैंवेलोगजिनकीमांजिदाहै।मांकीगोदमेंआनेसेअसीमितसुकूनमिलताहै।

डीएमरवीशगुप्तकीपत्नीश्रेयागुप्तनेकहाकिमांपूरेजीवनबच्चोंकेलिएसमर्पितरहतीहै।उसकापूराजीवनअपनेलाडलोंकेनामहोताहै।उन्होंनेकहाकिहरजिम्मेदारियोंकोनिभानेकेसाथहीबच्चोंकोभरपूरप्यारदेतीहूं।मदर्सडेएकत्योहारकीतरहदिखताहै।आजकादिनउन्होंनेअपनेबच्चोंकेसाथउत्साहसेबिताया।

दारोगाप्रतिभासिंहखलीलाबादकस्बेकेगोलाचौकीकीप्रभारीहैं।कोरोनाकीमहामारीकेदौरमेंउनकादिनलोगोंकोजागरूककरनेऔरलॉकडाउनकापालनकरवानेमेंबीतरहाहै।रविवारकीसुबहअपनेबच्चोंकोगलेसेलगाकरउन्होंनेदुलारनेकाकार्यकिया।बच्चोंनेभीउन्हेंइसशुभदिनकेलिएशुभकामनाएंदी।उन्होंनेबतायाकिवर्दीपहननेकेदौरानसमाजकीऔरघरमेंआनेपरमांकेरूपमेंअपनेकर्तव्योंकानिर्वाहनकरतीहूं।