लॉकडाउन में भी खुले हैं पॉजिटिव सोच के दरवाजे

मोतिहारी।कोरोनावायरसकेकारणजारीलॉकडाउनकेबीचशहरकेअंबिकानगरमेंचलरहाकेलाकेधागेसेबैग,हैट,टोपी,पूजाआसनीआदिबनानेकाकामठपनहींहै।हांउनकीरफ्तारथमजरूरगईहै,मगरउनकेहाथोंनेहारनहींमानीहै।लॉकडाउनकेपूर्वजीविकासमूहकीकरीबदोदर्जनमहिलाएंप्रतिदिनकेलाकेफाइबरधागासेसामग्रीनिर्माणकोजुटतीथी।अबशहरकेअंबिकानगरनिवासीपवनकुमारश्रीवास्तवकुदयहसबकररहेहैं।उन्होंनेस्वयंसामग्रीतैयारकरनेकीठानी,ताकिहोनेवालेनुकसानसेबचाजासके।इसतरहउन्होंनेअबतककेलॉकडाउनकीअवधिमेंदोदर्जनसेअधिकहैटवटोपी,एकदर्जनसेअधिकपूजाकेलिएआसनीवदोपीसमहिलाओंकेउपयोगकाबैगतैयारकरलियाहै।

पत्नीवबच्चोंकामिलासहयोग

पवननेजबनुकसानसेबचनेकेलिएसामग्रीनिर्माणशुरूकीतोपत्नीअमिताश्रीवास्तवभीउनकेसहयोगकोआगेआयी।धागेकोभिगोकरउसेमुलायमकरपतलीरस्सीबनानाशुरूकियाऔरपवनरस्सीकेसहयोगसेसामग्रीनिर्माणमेंजुटगए।इसमेंबेटीसलोनीवपुत्रसत्यमनेभीअपनायोगदानशुरूकिया।इनदोनोंनेसामग्रीकाकलरफुलबनानेकेलिएधागेकोरंगनेकाकामशुरूकिया।

मास्कबनानेकीतैयारीमेंजुटेहैपवन

कोरोनावायरसकेसंक्रमणकोदेखतेहुएपवनवउनकापरिवारमास्कबनानेकीतैयारीमेंजुटगएहै।उन्होंनेबतायाकिमास्कबनानेमेंकेलाकाफाइबरधागावखादीवस्त्रकाउपयोगकियाजाएगा।इसेशारीरिकदूरीकापालनकरतेहुएस्वयंसहायतासमूहकेमाध्यमसेतैयारकरजल्दहीबाजारमेंउतारनेकीबातकही।उन्होंनेबतायाकिअगरकोईसामग्रीलेकरअपनेघरमेंकामकरनाचाहताहैतोसामग्रीउसकेघरतकपहुंचानेकाकामकियाजाएगा।साथहीइससेमिलनेवालीराशिकाहिस्साभीउन्हेंमजदूरीकेरूपमेंदियाजाएगा।

ऑनलाइनशॉपिगकरसकेंगेलोग

पवननेबतायाकिलॉकडाउनसेपूर्वहैंडक्राफ्टकाकामजानपुल,अंबिकानगर,चांदमारी,आजादनगरसहितकुछग्रामीणक्षेत्रोंकेस्वयंसहायतासमूहकीजीविकासदस्यकरतीथीं।लॉकडाउनमेंघरसेनिकलनामुश्किलहै।ऐसेमेंवेखुदअपनेपरिवारकेसाथकेलेकेरेशेमेंरंगभरनेसेलेकरउसेआकर्षकलुकदेनेमेंजुटेहैं।उन्होंनेबतायाकिफिलहालस्थानीयबाजारमेंहैंडिक्राफ्टसामग्रीकोऑनडिमांडमुहैयाकरातेहैं।साथहीऑनलाइनशॉपिगकीयोजनापरभीकामकररहेहै।इसकोलेकरउन्होंनेकईमार्टसेभीसंपर्कसाधाथा,लेकिनलॉकडाउनकेकारणसबकुछठपपड़ाहै।स्थितिसामान्यहोनेकेबादइसदिशामेंवेकामकरेंगे।