कूप योजना धरातल पर उतरती तो सवंर जाती धरहरा की किस्मत

संवादसूत्र,धरहरा(मुंगेर):एकओरसरकारकिसानोंकीआमदनीदोगुनीकरनेकीबातकरतीहै।वहीं,दूसरीओरनक्सलप्रभावितधरहराप्रखंडमेंअबभीकिसानभगवानभरोसेखेतीकरनेकोविवशहैं।इसबारबारिशनहींहोनेसेधरहराप्रखंडसुखाड़चपेटमेंहै।धरहराकीअधिकांशआबादीपूरीतरहसेकृषिपरआश्रितहै।किसानोंकीसिचाईकीसमस्यादूरकरनेकेलिएडकरनालासिचाईपरियोजना,सतघरवाजलाशययोजनाआदिकेक्रियान्वयनपरकरोड़ोंरुपयेखर्चकरदिएगए।लेकिन,किसानोंकेखेतोंतकअबभीपानीनहींपहुंचाहै।वर्ष2013मेंजिलाप्रशासननेयहांकेकिसानोंकेखेतोंमेंसिचाईसुविधाउपलब्धकरानेकेउद्देश्यसेधरहराप्रखंडकेनक्सलप्रभावितबंगलवा,अजीमगंज,महगामा,ईटवा,माताडीहपंचायतमेंएकीकृतकार्ययोजना(इंट्रीग्रेटेडएक्शनप्लान)केतहतप्रत्येकपंचायतमें100-100कूपनिर्माणकीयोजनाबनाई।कुआंबनानेकाकामभीशुरूहुआ।लेकिन,एकदर्जनकुओंकेनिर्माणकेबादयहयोजनाबंदकरदीगई।इसकेकारणक्षेत्रकीफसलउत्पादनमेंबढ़ोतरीनहींहोपारहीहै।जिसकिसानोंकेखेतोंमेंकूपकानिर्माणहुआवैसेकिसानबारिशनहींहोनेकेबावजूददोफसलउपजारहेहैं।जिनकिसानोंकूपनिर्माणकीस्वीकृतिमिलनेकेबावजूदकूपकानिर्माणनहींहोसका,वैसेकिसानआजभीइसयोजनाकेशीघ्रपूरीहोनेकीबाटजोहरहेहैं।

क्योंबंदहुईयोजना

इसयोजनाकेक्रियान्वयनकेलिएजिलामेंपर्याप्तराशिउपलब्धथी।लेकिन,योजनाक्योंठंडेबस्तेमेंडालदीगई,यहआमलोगोंकीसमझसेपरेहै।यहयोजनाधरातलपरउतरजातीतोधरहराकेकिसानोंकीकिस्मतसंवरजाती।

क्याकहतेहैंकिसान

किसानराजेशयादव,अजितसिंहनेबतायाकिस्वीकृतिकेबावजूदभीकूपनिर्माणनहींहोसकाहै।सिचाईकीसुविधानहींरहनेकेकारणफसलकीपैदावारअच्छीनहींहोतीहै।

किसानउमेशयादव,छोटूकुमारनेबतायाकिकूपनिर्माणकीयोजनाकिसानकेहितमेंथा।इसेफिरसेचालूकरनेकीजरूरतहै।