कथा सुनने से आती है सुख व शांति

जागरणसंवाददाता,ऊंज(भदोही):जोभक्तनिष्कामभावसेकथासुनतेहैंउन्हेंसुख,शांतिवसंपन्नताहासिलहोतीहै।बाबासेमराधनाथधामकल्पवासमाघमेलेमेंचलरहेश्रीरामकथामेंमंगलवारकोअयोध्याआएस्वामीशांतनुजीमहराजनेप्रवचनकरतेहुएयहबातेंकहीं।श्रोताजयकारालगातेरहे।

उन्होंनेकहाकिशंकरसुमनकेसरीनंदनचरितार्थकथाकाअर्थहैकिहनुमानभगवानशिवकेअवतारहैं।तुलसीदासनेहनुमानकेसानिध्यमेंरामायणपूर्णकीथी।भगवानशिवनेसबसेपहलेयहकथामातापार्वतीकोसुनाईथी।कहाकिकथामनकीमैलधोनेकासर्वोत्तमसाधनभीहै।उन्होंनेभगवानशिववपार्वतीकेविवाहप्रसंगकावर्णनकिया।इसमौकेपरस्वामीकरुणाशंकरदास,बालकदास,रामबलीसिंह,दिनेशपांडेय,ननकूरामयादववअन्यथे।