कश्मीर में युवाओं को सही रास्ता दिखाउंगी : अशोक चक्र से सम्मानित नजीर अहमद वानी की पत्नी

नयीदिल्ली,25जनवरी(भाषा)शांतिकालकेसर्वोच्चवीरतापुरस्कारअशोकचक्रकेलिएचुनेगएप्रथमकश्मीरीएवंशहीदलांसनायकनजीरअहमदवानीकीपत्नीउन्हेंसच्चीश्रद्धांजलिदेनेकेलिएकश्मीरकेबच्चोंऔरयुवाओंकोसहीरास्तादिखानाचाहतीहैं।गौरतलबहैकि25नवंबरकोभारीमात्रामेंहथियारोंसेलैसछहसशस्त्रआतंकवादियोंसेलड़तेहुएवानी(38)नेअपनेप्राणन्यौछावरकरदिएथे।स्कूलशिक्षिकाऔरदोबच्चोंकीमांमेहजबीननेकहा,‘‘अपनीतरहसे,मैंबच्चोंऔरयुवाओंकोसहीरास्तादिखानेकीकोशिशकरूंगी।मैंउनसेकहुंगीकिआपकोकश्मीरकेलिएकुछकरनाहै।’’उन्होंनेकहा,‘‘यदिमैंदेखुंगीकिकोईगलतरास्तेपरजारहाहैतोमैंउसेरोकुंगी।’’उन्होंनेकहाकिउनकेप्रेरणास्रोतउनकेपतिकीकर्तव्यनिष्ठाहै,जिसकानिर्वहनकरतेहुएवह25नवंबरकोआतंकवादियोंसेभिड़े,जबकिवहजानतेथेकिवहमुठभेड़सेजीवितवापसनहींभीआसकतेहैं।मेहजबीनयहांअशोकचक्रपुरस्कारग्रहणकरनेआईहैं,जोउनकेपतिकोमरणोपरांतगणतंत्रदिवसपरदियाजाएगा।राष्ट्रपतिरामनाथकोविंदवानीकोमरणोपरांतशनिवारकोअशोकचक्रसेसम्मानितकरेंगे।उन्होंनेबताया,‘‘उन्होंने(वानीने)24नवंबरकीशाममुझेफोनकियाथा।उन्होंनेमुझेमुठभेड़केबारेमेंबतायाथाऔरवहजानतेथेकिवहशहीदहोनेजारहेहैं।लेकिनवहअपनेकर्तव्यकोलेकरदृढ़थे।उन्होंनेमुझसेचिंतानहींकरनेकोकहाथा।’’मेहजबीननेकहा,“उनकेशहीदहोजानेकीखबरजाननेकेबादमैंरोईनहीं।एकअंदरूनीसंकल्पथाजिसनेमुझेरोनेनहींदिया।”उन्होंनेकहा,“एकशिक्षिकाकेतौरपरमैंअपनेराज्यकेलोगोंकोअच्छानागरिकबनानेकेलियेखुदकोसमर्पितकरतीहूं।मैंनेयुवाओंकोसहीराहपरलानेकासंकल्पलियाहैऔरइसकेलियेमुझेअपनेपति-दुनियाकेसबसेअच्छेपतिसेप्रेरणामिलरहीहै।"मेहजबीननेकहाकिउनकेपतिकेपराक्रमकाओजऐसाथाजिसनेउनकीशहादतकीखबरसुनकरभीआंखोंसेआंसूनहींबहनेदिए।जम्मू-कश्मीरकेकुलगाममेंचेकीअश्मुजीकेरहनेवालेवानी2004मेंभारतीयसेनाकी162इंफेंट्रीबटालियन(प्रादेशिकसेना)सेजुड़ेथे।सेनाकेएकवरिष्ठअधिकारीनेबताया,“वहएकबहादुरसैनिकएवंशुरुआतसेहीएकहीरोथे।उन्होंनेअपनेगृहराज्यजम्मू-कश्मीरमेंशांतिकायमरखनेकेलिएसेवाएंदीं।”वानीकोइससेपहले2007औरफिर2018मेंवीरताकेलियेसेनापदकसेभीसम्मानितकियागयाथा।