कर्ज के अनुदान में तब्दील ना होने से हुआ 2332 करोड़ रपये का नुकसान : कैग

लखनउ,18मई:भाषा:उत्तरप्रदेशमेंवित्तीयवर्ष2015-16मेंविद्युतविकासएवंसुधारकार्यक्रमकेलियेकेन्द्रद्वाराप्रदानकियेगयेकर्जकेअनुदानमेंपरिवर्तितनाहोनेसेकरीब2332करोड़रपयेकेअनुदानकीहानिहुईहै।विधानसभामेंपेशकीगयीनियंत्रकएवंलेखामहापरीक्षक:कैग:रिपोर्टकेअनुसारपुनर्गठित-त्वरितविद्युतविकासएवंसुधारकार्यक्रमकेक्रियान्वयनकीप्रगतिकाफीमंदथी।यहप्रतिवेदनसार्वजनिकक्षेत्रकेउपक्रमोंपर31मार्च2016कोखत्महुएवर्षकेआंकड़ोंपरआधारितहै।प्रतिवेदनमेंकहागयाहैकियोजनाकीस्वीकृतलागत7971.48करोड़रपयेथी,जिसकेसापेक्ष3764.72करोड़रपयेहीखर्चकियेगये।योजनाकेलियेनिर्धारितनिर्देशकेअनुसारयोजनाकेभागअ:एक:तथा:दो:औरभागबकेलियेकेन्द्रद्वाराप्रदानकियेगयेकर्जकाक्रमश:100प्रतिशतऔर50फीसदहिस्साइसयोजनाकेनिर्धारितसमयमेंपूराहोनेकेबादहीअनुदानमेंतब्दीलहोसकतीथी।रिपोर्टकेअनुसारयोजनाकेतहत4110.70करोड़रपयेकाकर्जप्राप्तहुआथा,मगरयोजनाकेनिर्धारितसमयमेंपूरानाहोनेकेकारण2332.58करोड़रपयेअनुदानमेंपरिवर्तितनहींहोसके,लिहाजायहनुकसानसाबितहुआ।प्रतिवेदनकेअनुसारजलनिगमकेनिर्माणएवंपरिकल्पसेवाएंखण्डद्वाराचयनितनगरोंमेंठोसअपशिष्टप्रबन्धनप्रणालीकीअधूरीपरियोजनाओंपर173.58करोड़काबेकारव्ययकियागया।इसकेअलावाउत्तरप्रदेशवित्तीयनिगमद्वाराअपनीमालीहालतसुधारनेकेलियेसरकारसेसहायताप्राप्तकरनेकेलियेकोईठोसप्रयासनहींकियागया।