कोरोना संकट ने समाज में तमाम तरह के नजरिये को भी बदला है : मोदी

नयीदिल्ली,26अप्रैल(भाषा)प्रधानमंत्रीनरेंद्रमोदीनेकहाहैकिकोरोनासंकटनेपुलिसकर्मियोंसेलेकरसामान्यमजदूरोंतकविभिन्नवर्गोंऔरकार्योंकेप्रतिसमाजमेंलोगोंकेसामान्यनजरियेकोबदलनेकाभीअवसरप्रदानकियाहै।मोदीनेरविवारकोअपनेकार्यक्रम‘मनकीबात’मेंकहाकिकोरोनामहामारीनेविभिन्नविषयोंपरसमाजकेसामान्यनजरियेकोबदलनेऔरपरिस्थितियोंकेबारेमेंनयेतरीकेसेसोचनेकामौकादियाहै।उन्होंनेकहा,‘‘कोरोनासंकटकेबीचहमेंअपनेजीवनकेबारेमेंऔरसमाजकोदेखनेकेनजरियेकेबारेमेंनयेतरीकेसेसोचनेकामौकामिलाहै।’’मोदीनेकहाकिइतनाहीनहींसमाजकेनजरियेमेंभीबदलावआयाहै।ऑटोचालकहों,दुकानोंमेंकामकरनेवालेकामगारहों,मंडीकेमजदूरहोंयासफाईकर्मी,इनतमामलोगोंकीअहमियतकोहमसबसंकटकीइसघड़ीमेंमहसूसकररहेहैं।’’प्रधानमंत्रीनेकहाकिअबलोगइनसभीलोगोंकेबारेमेंसोशलमीडियासहितअन्यमंचोंपरइनकेप्रतिसम्मानप्रकटकरतेहुयेलिखकरअपनेभावव्यक्तकररहेहैं।उन्होंनेकहा,‘‘हमनेदेखाहैकिशहरोंमेंलोगसफाईकर्मियोंपरपुष्पवर्षकररहेहैं।’’उन्होंनेकहाकिपहलेइनकीसेवाओंकोसामान्यमानकरइसप्रकारसेभावप्रकटनहींकियेजातेथेलेकिनसंकटकालमेंइनकीसेवाओंसेअभिभूतहोकरहीसमाजकेनजरियेमेंबदलावआयाहै।मोदीनेदेशभरमेंपुलिसकर्मियोंकेप्रतिभीइसदौरानलोगोंकीसोचमेंसकारात्मकबदलावआनेकाजिक्रकिया।उन्होंनेकहा,‘‘पुलिसव्यवस्थाकोलेकरभीआमसोचबदलीहै।पहलेपुलिसकेप्रतिलोगोंकीसामान्यतौरपरनकारात्मकसोचथी।’’प्रधानमंत्रीनेकहा,‘‘आजपुलिसहरकिसीकीमददकेलियेआगेआरहीहै।इससेपुलिसकामानवीयऔरसंवेदनशीलपक्षउभराहै।इसकारणसेहमेंपुलिसकेसाथभावनात्मकरूपसेजुड़नेकामौकामिलाहै।’’उन्होंनेकहाकियेघटनायेंआनेवालेसमयमेंसमाजमेंसकारात्मकबदलावलायेंगी।प्रधानमंत्रीनेआगाहभीकियाकि‘‘इनघटनाओंकोहमेंनकारात्मकताकेरंगसेनहींरंगनाहै।’’प्रधानमंत्रीमोदीनेभारतीयपरंपरामेंसमाजमेंपरस्पररूपसेएकदूसरेकीमददकेभावकोप्रमुखतादेनेकाजिक्रकरतेहुयेकहाकि‘‘जोमेरानहींहै,जिसपरमेराहकनहींहैं,उसेअपनेपासरखना,किसीसेछीननेकीश्रेणीमेंआताहैऔरयहविकृतिहै।’’उन्होंनेकहाकिइससेऊपरउठकरजबकोईअपनीजरूरतकीवस्तुकिसीदूसरेकोदेदेताहै,वहसंस्कृतिहै।उन्होंनेकहाकिभारतनेअपनीसंस्कृतिकेइसभावसेप्रेरितहोकरहीजरूरतमंददेशोंकोसंकटकीइसघड़ीमेंदवाएवंअन्यसामग्रीमुहैयाकरायीहै।मोदीनेकहाकिसंकटकाल,कसौटीकाकालहोताहैजबइनगुणोंकापरीक्षणहोताहै।उन्होंनेकहा,‘‘यदिहमउनदेशोंकीमांगपरदवायेंऔरजरूरीसामाननहींदेतेतोकोईहमेंदोषनहींदेताक्योंकिहमारीजिम्मेदारीपहलेअपनीजरूरतपूरीकरनेकीहै।लेकिन,भारतनेमुसीबतमेंअपनीरक्षाकरतेहुयेदूसरोंकीभीरक्षाकरनेकीअपनीसंस्कृतिकेअनुरूपयहफैसलाकियाऔरदुनियाभरसेआरहीमानवताकीरक्षाकीपुकारपरयहकामकरकेदिखाया।’’