खौलते तेल में हाथ-पैर झुलसे, झोलाछाप ने बिगाड़ी हालत; मेडिकल कॉलेज ने भर्ती से किया था इनकार

खौलतेतेलसेझुलसी3सालकीबेटीकीजानपरआगईतोपितानेअपनासबकुछदांवपरलगादिया।कोटाकेमेडिकलकॉलेजनेभर्तीकरनेसेइनकारकरदिया।प्राइवेटअस्पतालकीउसनेशरणली।वहांकीफीसभरनेकेचक्करमेंमकानगिरवीरखदिया।पैसेकमपड़ेतोकुछलोगोंसेब्याजपररकमली।जमानतकेतौरपरअपनीबाइकउनकेपासरखदी।बच्ची40फीसदीझुलसगईहै।पैर,छातीऔरहाथोंपरगहरेजख्महैं।जरूरतपड़ीतोडॉक्टरनेपिताकीस्किनबेटीकोलगाए।बच्चीका13जनवरीकोपहलाऔर29जनवरीकोदूसराऑपरेशनहुआ।गुरुवारशामबच्चीकोअस्पतालसेडिस्चार्जकियागया।यहमामलाकोटाकेजगपुराइलाकेकाहै।

जगपुराइलाकेमेंकिराएसेरहनेवालेविष्णुकी3सालकीबेटीगुंजन20दिसंबर21कोखेलतेसमयगर्मकड़ाहीमेंतेलसेझुलसगईथी।घरवालेबच्चेकोलेकरतुरंतइलाकेमेंहीस्थितएकझोलाछापक्लीनिकपरलेकरगए।कोईखाननामकाव्यक्तियेक्लिनिकचलाताहै।झोलाछापनेबच्चेकोदेखनेकेबादकहाकिइसकाघरपरहीइलाजकराओ।खोपरे(नारियल)कातेललगानेसेबच्चीठीकहोजाएगी।परिजनबच्चीकोलेकरघरआगए।दूसरेदिनसेहीउसकीहालतबिगड़नेलगी।जलनेकेजोघावथे,वहपकनेलगगए।घरवाले24दिसंबर21कोउसेलेकरमेडिकलकॉलेजपहुंचे।बच्चेकीस्थितिकोदेखतेडॉक्टरसेउसेभर्तीकरनेसेमनाकरदिया।इसकेबादबच्चीकोतलवंडीस्थितएकनिजीअस्पतालमेंभर्तीकरवायागया।

पिताविष्णुनेअपनीबेटीकीजिंदगीबचानेकेलिएजानलगादी।अपनासबकुछगिरवीरखदिया।विष्णुजगपुरामेंहीएकफैक्ट्रीमेंमजदूरीकरताहै।निजीअस्पतालमेंऑपरेशनकरानेकीउसकीहैसियतनहींथी।बेटीकोबचानेकेलिएउसनेअपनासबकुछदांवपरलगादिया।

बच्चीकोबचानामुश्किलथा

प्लास्टिकसर्जनडॉ.आलोकगर्गनेबतायाकिबच्ची40प्रतिशतसेज्यादाबर्नथी।उसकेकूल्हे,पैर,छातीऔरहाथोंपरगहरेघावथे।गर्मतेलकेघावबहुतज्यादाडीपहोतेहैं।ऐसेमेंइनमेंरिकवरीमेंभीबहुतसमयलगताहै।बच्चीसेप्टीसीमियावालीकंडीशनमेंहमारेपासआईथी।सबसेपहलेहमनेघावोंकोसाफकरनेकेलिएबच्चीकोतैयारकिया।बच्चीकावजन10किलोहै।सबसेपहलेउसकेघावसाफकिए।दूसरीबारमेंउसीकीजांघवपैरोंसेस्किनलेकरघावोंपरग्राफ्टकीगई।इसकेबावजूदउसकीस्थितिमेंज्यादासुधारनहींहुआ।लगाईगईस्किनकाभीलॉसहोनेलगा।तीसरीबारमेंमैंनेपितासेबातकीऔरउन्हेंबतायाकिउनकीस्किनलेकरबच्चीकोलगाईजासकतीहै।पितातत्कालतैयारहोगए।

एकगरीबतबकेकेव्यक्तिकीएकबेटीकोबचानेकोलेकरदृढ़इच्छाशक्तिनेमुझेभीप्रेरितकिया।पिताकीस्किनलेकरहमनेउसमेंछोटे-छोटेछेदकिएऔरउनमेंकुछस्किनबच्चीकेलेकरग्राफ्टकी।इससेकुछहीदिनमेंवहस्किनआकारलेनेलगीऔरघावभीकमहोनेलगे।इसतरहकीग्राफ्टिंगके4केसपहलेभीकिएहुएहैं।इसकेसमेंबच्चीकेशरीरपरस्किनहीनहींबचीथीतोपिताकीस्किनलेनीपड़ी।बच्चीकोदर्दमेंआरामआयातोवहपर्याप्तखाने-पीनेलगी।वजनबढ़नेलगाऔरतेजीसेरिकवरहोनेलगी।

परिवारमेंदोबेटियां

पिताविष्णुवर्मानेबतायाकिउनकेदोबेटियांहैं।बच्चेकीहालतदेखनेकेबादवहघबरागएथे,क्योंकिउसकेऑपरेशनकरानेतककेपैसेनहींथे।गांवमेंएकमकानथा,जिसेगिरवीरखदिया।हालांकिअस्पतालकेडॉक्टरनेभीमददकीऔरट्रीटमेंटसेलेकरदवाइयोंमेंकाफीछूटदी।उन्होंनेबतायाकिइलाजकेदौरानहमारीहालतइतनीखराबहोगईथीकिहमरोटीखानेकेलिएभीदूसरोंकेभरोसेथे।स्किनविष्णुकेपैरसेलीगईहै।ऐसेमेंअभीउसकाघावभरनेमेंभी1महीनेकासमयलगेगा।साथहीबच्चीकोपूरीतरहठीकहोनेमेंअभी2से3महीनेकासमयलगेगा।