जमींदोज हो रही योजना, धराशायी हो रहा शिलापट्ट

संवादसूत्र,त्रिवेणीगंज(सुपौल):जिलेकेत्रिवेणीगंजअनुमंडलमेंविकासकोपरवानचढ़ाकरक्षेत्रकोसमृद्धशालीबनानेहेतुबड़ेहीताम-झामकेसाथकईलोककल्याणकारीयोजनाओंकीआधारशिलारखीगई।किन्तुसरकारीउपेक्षावउदासीनताकेपरिणामस्वरूपकईयोजनाआधारशिलातकहीसिमटकररहगई,याफिरअपनीपूर्णताकेआसमेंधराशायीहोनेकेकगारपरखड़ीहै।सरकारीउपेक्षाकेकारणआलूउत्पादनमेंमहत्वपूर्णस्थानरखनेवालेत्रिवेणीगंजअनुमंडलमुख्यालयमेंअबतकनहींहोपायाहैकेन्द्रीयशीतभंडारकानिर्माण।जबकिवर्षोपूर्वशीतभंडारनिर्माणकेलिएप्रखंडकार्यालयकेसमीपकृषिफार्मकीचारएकड़जमीनअधिग्रहितकरभूमिपूजनवशिलान्यासबड़ेहीतामझामकेसाथकियागया।लेकिननिर्माणआजतकनहींकियाजासका।योजनाफाइलोंमेंगुमहोगई।पांचजून1997कोतत्कालीनकृषिमंत्रीरामजीवन¨सहकेद्वाराकईमंत्रियोंएवंविधायकोंकीमौजूदगीमेंभूमिपूजनवशिलान्यासकरकिसानोंकोआर्थिकरूपसेसंपन्नबनानेकासंदेशदियागयाथा।मौकेपरकेन्द्रीयभंडारणनईदिल्लीकेअध्यक्षडा.सुरेन्द्रप्रसादमंडल,वाणिज्यप्रबंधकअजयखेड़ा,क्षेत्रीयप्रबंधकअरविन्दचौधरीएवंअधिशासीअभियंताआनंदमोहनशर्माभीउपस्थितथे।तबक्षेत्रकेआलूउत्पादककिसानोंकोलगाथाकिअबअधिकपूंजीवश्रमसेउपजायेअपनेउत्पादकाउचितमूल्यप्राप्तहोसकेगा।शीतभंडारकेनिर्माणसेकच्चेउत्पादआलूकेसड़नेकाभयजहांदूरहोगा,वहींबिचौलियोंसेनिजातमिलेगीऔरआर्थिकसंपन्नताबढ़ेगी।किन्तुऐसानहींहुआकेन्द्रीयशीतभंडारनिगमकाकार्यभूमिपूजनवशिलान्यासतकहीसीमितरहगया।शिलापट्टहरआने-जानेवालोंकामुंहचिढ़ारहाहै।