जीवन में कठिनाइयों से घबराना नहीं चाहिए

साहिबगंज:जीवनमेंकठिनाइयोंसेघबरानानहींचाहिएक्योंकिभगवानअपनेभक्तकीपरीक्षालेनेकेलिएहीकठिनाईदेतेहैं।परीक्षामनुष्योंकोहीनहींभगवानकोभीदेनीपड़ीहै।जबईश्वरकीपरीक्षाहोसकतीहैतोहमसभीतोसाधारणमनुष्यहैं।उक्तबातेंनार्थकालोनीअशोकवाटिकाधामस्थितमांतारामंदिरप्रांगणमेंचलरहीशिवमहापुराणकथामेंकथावाचिकावालव्यासआराधनाशास्त्रीजीनेकहीं।उदाहरणदेतेहुएकहाकित्रिदेवअर्थातब्रह्मा,विष्णुवभगवानशिवजीअत्रिमुनिवमाताअनुसूयाकेपुत्ररूपमेंचंद्रमा,दत्तात्रेयवदुर्वासामुनिकेरूपमेंउत्पन्नहुए।भक्तकीभक्तिकीपरीक्षाकेलिएदुर्वासाऋषिनेभीराजाअम्बरीष,भगवानश्रीकृष्ण,भगवानश्रीरामइत्यादिकीपरीक्षाली। भक्तोंकीभक्तिसेप्रसन्नहोकरभगवानभोलेनाथजीभिन्न-भिन्नस्थानोंपरअलग-अलगनामोंसेज्योतिर्लिंगरूपमेंप्रकटहुएजिसकीकथासुनाईगईवझांकीकेमाध्यमसेज्योतिर्लिंगकीस्थापनाकोदिखायागयाजिसकासभीभक्तोंनेभजनोंपरझूमतेहुएआनंदलिया।संपूर्णसृष्टिहीओंकारस्वरूपभगवानभोलेनाथमेंसमाहितहैंइसलिएभगवानभोलेनाथनेअलग-अलगरूपोंमेंदर्शनदिए।शिवजीकारुद्ररूपमेंअवतारहनुमानजीकेरूपमेंहुआथाउसकावर्णनवराजानलवरानीदमयंतीकीकथासुनाईगईजिसमेंउनकीभगवानद्वाराकिसप्रकारपरीक्षालीगयीइसविषयमेंबतायागया।