Jharkhand: छात्र नेता रवि अग्रवाल बने विपक्ष के विधायक...सदन में उठाया अनुबंध कर्मचारियों का मुद्दा

रांची,जासं।तीनदिवसीयझारखंडयुवासदन3.0केदूसरेदिनरविवारकोझारखंडकेविभिन्नक्षेत्रोंसेआएयुवाओंऔरछात्रोंकाचयनहुआ।जिसमेंरांचीकेअखिलभारतीयविद्यार्थीपरिषदकेछात्रनेतारविअग्रवालकाचयनरांचीविधानसभासेविपक्षकेविधायककेरूपमेंहुआ।सदनमेंविभिन्नमुद्दोंपरबहसहुई।

संसदीयकार्यप्रणालीसेरूबरूहुएछात्र-युवा

इसकार्यक्रमकेमाध्यमसेयुवाओंकोयहभीसिखायाजारहाकिकिसतरहसदनमेंकार्रवाईहोतीहै।पक्षऔरविपक्षकेसदस्यअपनेएजेंडोंपरकैसेचर्चाकरतेहैं।कैसेअपनेक्षेत्रकीसमस्याकोसदनकेपटलपररखतेहैं।रांचीविधानसभाकेरविअग्रवालनेबिलकेविरोधमेंअपनीबातेंरखीं।उन्होंनेरोजगारविनियमअधिनियम1959केविरोधमेंकहाकिसरकारबिलतोलातीहै,परउसेघरातलपरनहींउतारपातीहै।राज्यमेंकरीबसाढेतीनलाखपदखालीहैं।सरकाररोजगारकेनामपरसिर्फआश्वासनदेरहीहै।

सरकारीविभागोंमेंरिक्तपदोंकाउठायामामला

उन्होंनेकहाकिकुछदिनोंपहलेहीसरकारनेउत्पादसिपाहीकीभर्तीकेलिए583पदकेलिएवैकेंसीतोनिकाली,लेकिनक्याइतनीसीटोंसेयुवाओंकाभलाहोगा?कईसरकारीविभागोंमेंपदरिक्तहैंलेकिनइसदिशामेंसरकारकुछनहींकररहीहै।उन्होंनेकहाकिपिछलीसरकारने2018मेंअनुबंधपरनियुक्तिकीथी।लेकिनसत्ताबदलतेहीसरकारसबभूलगई।उनशिक्षकोंकेबारेकुछनहींकररहीहै।उन्होंनेपूर्वमेंनियुक्तऐसेशिक्षकोंकोससमयवेतनदिएजानेकीमांगकीताकिउनकेपरिवारकाभरणपोषणहोसके।

इनमांगोंपरहुईचर्चा: