इंटरमीडिएट के परीक्षार्थी आजाद, परीक्षा संपन्न

जागरणसंवाददाता,मऊ:उत्तरप्रदेशमाध्यमिकशिक्षापरिषदकीओरसेआयोजितहाईस्कूलएवंइंटरमीडिएटकीपरीक्षागुरुवारकोसंपन्नहोगई।पूर्वमेंइंटरमीडिएटभौतिकविज्ञानकाप्रश्नपत्रसोशलमीडियापरवायरलहोजानेकेचलतेइसविषयकीपरीक्षागुरुवारकोदोबाराआयोजितकराईगई।जिलेके135मेंसे67परीक्षाकेंद्रोंपरआयोजितइंटरभौतिकविज्ञानमेंपंजीकृत13372केमुकाबले11718परीक्षार्थीउपस्थितथे,जबकि1654छात्रअनुपस्थितरहे।कमकेंद्रहोनेऔरसचलदस्तोंकालगातारचक्रमणबनेरहनेसेकिसीकेंद्रपरनकलकीहिमाकतकोईनहींकरसका।

वर्षोंबादजिलेमेंयूपीबोर्डपरीक्षाकोनकलमुक्तसंपन्नकरानेकेलिएजिलाप्रशासनकोबेहदकड़ारुखअपनानापड़ा।बोर्डपरीक्षाकीशुचिताऔरपवित्रताभंगकीकोशिशकरनेवालेकिसीकेंद्रव्यवस्थापककोनहींबख्शागया।पर्चाआउटकरनेवालेशिक्षकोंएवंप्रबंधकोंकोजहांजिलाप्रशासननेजेलकारास्तादिखाया,वहींअनियमितताकेआरोपोंमेंपकड़ेगएलगभगदोदर्जनकक्षनिरीक्षकोंएवंकेंद्रव्यवस्थापकोंकेविरुद्धएफआइआरदर्जकरनीपड़ी।वर्षोंबादयहपहलीबोर्डपरीक्षाथीजबनतोकिसीकेंद्रपरकहींबाहरउत्तरपुस्तिकाएंलिखेजानेकामामलापकड़मेंआयाऔरनहीकिसीसचलदस्तेयामजिस्ट्रेटनेकिसीकेंद्रपरसामूहिकनकलकीशिकायतपकड़ी।आलेखबोलकरनकलकरानेकेमामलेमेंभीकहींसेपकड़मेंनहींआए।शासनकीमंशाकेअनुरूपबोर्डपरीक्षाकोनकलमुक्तकरानेमेंजिलाप्रशासनकोभलेहीकड़ीकार्रवाईपरउतरनापड़ाहो,लेकिनवर्षोंबादनकलमुक्तपरीक्षाकेआयोजनसेजिलाप्रशासनकेसाथ-साथजिलेकेबुद्धिजीवीसमाजनेभीराहतकीसांसलीहै।लोगोंकोउम्मीदहैकिइसवर्षजोकमियांरहगईथीं,वहअगलेवर्षनहींरहेंगीऔरछात्रपढ़ने-लिखनेपरध्यानदेंगे।जिलाधिकारीज्ञानप्रकाशत्रिपाठीएवंजिलाविद्यालयनिरीक्षकडा.राजेंद्रप्रसादनेबोर्डपरीक्षाकेसफलआयोजनकेलिएसभीसेक्टरमजिस्ट्रेट,स्टेटिकमजिस्ट्रेट,केंद्रव्यवस्थापकोंएवंकक्षनिरीक्षकोंकाआभारव्यक्तकिया।

नकलसेभरोसाटूटा

केवलनकलकेभरोसेहाईस्कूलऔरइंटरपासकरलेनेकासपनादेखनेवालेहजारोंछात्रोंकाभरोसातोड़नेमेंवर्ष2020कीबोर्डपरीक्षामेंजिलाप्रशासनकोकाफीहदतककामयाबीमिलीहै।नकलनहोनेदेनेकोलेकरप्रशासनिकसख्तीकीचर्चाघर-घरहै।परीक्षादेकरकेंद्रोंसेबाहरनिकलतेछात्रोंनेभीकहाकिनकलकेभरोसेरहनेवालेछात्रआगेभीयहीव्यवस्थारहीतोनहींपासहोंगे।यानिहाईस्कूलऔरइंटरपासकरनाहैतोपढ़नाहीपड़ेगा।वर्जन..

छात्रोंएवंशिक्षकोंकोनकलकरने-करानेकीप्रवृत्तिसेऊपरउठनाहोगा।नकलसेछात्रोंकाभविष्यबनतानहींहै,बल्किउनकीआनेवालीकईपीढि़यांबर्बादहोजातीहैं।लगनऔरमेहनतसेअर्जितज्ञानकईपीढि़योंतकप्रवाहितहोतारहताहै।

-डा.राजेंद्रप्रसाद,डीआइओएस,मऊ।