ईच वन टीच वन का दिया जाए नारा

पीलीभीत:लोकसभासचिवालयनईदिल्लीकेसंयुक्तनिदेशकडॉ.नरेश¨सहनेईचवनटीचवनकानारादेनेकाआह्वानकियाहै।उन्होंनेकहाकिमतदानप्रतिशतबढ़ानेकेसाथहीप्रत्याशियोंकेचरित्रऔरपृष्ठभूमिकेबारेमेंजानकारीहोनीचाहिए।ऐसाकरनेसेदेशकालोकतंत्रमजबूतहोसकेगा।स्कूल-कालेजोंमेंपढ़नेवालेबच्चोंकोजागरूककरनेकीआवश्यकताहै।

संयुक्तनिदेशकडॉ.¨सहदैनिकजागरणसेबातचीतमेंकहाकिराजनीतिमेंआनेवालेराजनेताओंकीयोग्यतानिर्धारणपरचर्चाहुई।देशऔरविदेशमेंदेखागयाहैकिकमपढ़े-लिखेनेताओंनेबेहतरकामकियाहै,जोआजभीयादकियाजाताहै।इसलिएराजनेताओंकीयोग्यतानिर्धारितनहींहोसकेगी।उन्होंनेकहाकिमतदाताजागरुकताकार्यक्रमकोबच्चोंकोआगेलेजानाहोगा,जिसमेंसभीकायोगदानहोनाचाहिए।लोकतंत्रमेंचुनावकेमाध्यमसेसरकारेंबनतीहै।पहलेराजशाहीहोतीथी।राजाकेमरनेकेबादउसकाबेटेकोराजगद्दीमिलतीथी।लोकतंत्रमेंसुधारकरनेकीदिशामेंपहलकीजानीचाहिए।पहलेअलग-अलगप्रत्याशियोंकेबक्सेहोतेथे,जोधीरे-धीरेएकबक्सेमेंतब्दीलहोगया।बैलेटपेपरसेवोटडालनेकेस्थानपरईवीएमकीसुविधादीगई।आजवीवीपैटसेपर्चीनिकलतीहै।चुनावआयोगकोछोटी-छोटीचीजोंपरविशेषध्यानदेनाचाहिए।18सालकेयुवाओंकोवोटदेनेकाअधिकारदियागया,उसेचुनावमेंखड़ेहोनेकाअधिकारनहींदियागया।उन्होंनेकहाकिइंग्लैंडमेंमीडियाकोथर्डहाउसकादर्जादियागया।प्रेसबहुतहीमहत्वपूर्णसंस्थाहै।लोकतंत्रकेमाध्यमसेदेशकोआगेबढ़ानाहै।इसमौकेपरप्राचार्यडॉ.रेखाकुलश्रेष्ठ,कार्यक्रमसेक्रेटरीडॉ.नरेंद्रकुमारबतरामौजूदरहे।