हजारों दीयों से जगमग होगी अभ्रकनगरी

संवादसहयोगी,झुमरीतिलैया(कोडरमा):अभ्रकनगरीकोडरमाबुधवारकीसंध्याघरकेआंगनसेलेकरप्रतिष्ठानोंकेबाहरएवंछतोंपरदीयेएवंलाइटिगसेसजचुकाहै।गुरुवारकोहजारोंदीयोंसेघरकेसाथ-साथचौक-चौराहे,सार्वजनिकस्थलोंपरहजारोंदीयेजगमगहोंगे।कईनिवासस्थलोंपरविभिन्नतरहकीलाइटिगकीजाचूकीहै।चारोओरजगमगमाहौलकेबीचक्याबच्चे,क्यायुवक-युवतियांपटाखेएवंफूलझड़ीछोड़नेकेलिएआतुरहैं।यूंतोबच्चोंकीदीपावलीएकसप्ताहसेशुरूहोगईहै।युवतियांएवंमहिलाएंघर-आंगनकोरंगोलीसेसजानेकेलिएसामानोंकीखरीदारीकीं।दुकानदारोंकेसाथ-साथघरोंमेंमांलक्ष्मीएवंभगवानगणेशकीअगुवानीकेलिएतैयारीहोरहीहै।इसकेलिएछोटी-छोटीमूर्तियोंकेसाथपूजनकीसामग्रीखरीदीगईहै।घरएवंप्रतिष्ठानोंकोसजानेआर्टिफिशियलफूलएवंगेंदाफूलकाप्रयोगकियाजाएगा।विक्रेताराजेशमालाकारएवंसंतोषमालाकारनेबतायाकिकोलकातासेफूलमंगायागयाहैजो40रुपयेलरीबेचीजारहीहै।कमलकाफूल50रुपयेपीसमेंबेचाजारहाहै।होटलोंमेंलड्डूकेआडरदिएगएहैंजिसेकारीगरदिनरातबनारहहै।घरोंकीसाफ-सफाईकेबादलोगविभिन्नतरहकीसामग्रियोंकीखरीदारीभीकररहेहैं।चौदसएवंनरकचतुर्दशीकोलेकर14दीयेजलानेकीपरंपराबुधवारकोकीगई।दीपोत्सवसेएकदिनपहलेघर-घरमेंदीपदानकरनेकीमान्यताहै।इससेनकारात्मकऊर्जाकाअंतहोताहैऔरघरमेंसकारात्मकऊर्जाकाआगमनहोताहै।नरकचतुर्थीपर्व14खासस्थानपरदीयेजलाकररखनेसेमातालक्ष्मीकाआगमनहोताहै।4नवंबरकोदीपावली,5नवंबरगोधनपूजा,6कोभैयादूजकेपर्वकेसाथ-साथ8से11नवंबरतकचारदिवसीयछठपर्वकीतैयारीकीजारहीहै।छठकेगीतोंसेगली-मुहल्लेगुंजायमानहोरहेहैं।इधर,दीपावलीकोलेकरशहरकेसामंतोकालीमंदिर,स्टेशनपरिसरस्थितकालीमंदिरकोलाइटिगसेसजायागयाहै।शहरकेस्टेशनरोड,खुदरापट्टी,हटियारोड,देवीमंडपरोड,सीएचस्कूलरोडमेंमांकालीएवंलक्ष्मीपूजाकोलेकरपंडालबनानेकाकार्यपूर्णकरलियागयाहै।इनस्थलोंपरगुरुवारकीरात्रिपूजा-अर्चनाकीजाएगी।