हैदराबाद में साउथ स्टार पवन कल्याण की अपील, नेताजी की अस्थियां रेनकोजी मंदिर से भारत लाने तक होगा जनांदोलन

नेताजीसुभाषचंद्रबोसकीअस्थियोंकोभारतलाकरउसेलालकिलेपरस्थापितकरनेकीमांगअबजोरपकड़नेलगीहै।साउथकेएक्टरपवनकल्याणनेनेताजीकेलिएजनांदोलनकरनेकीअपीलकीहै।

साउथकेमशहूरएक्टरपवनकल्याण(PawanKalyan)नेनेताजीसुभाषचंद्रबोसकीअस्थियां(NetajiSubhashChandraBosemortalremains)भारतलानेकेलिएबड़ाआंदोलनछेड़दियाहै।गुरुवारकोहैदराबादमेंएककार्यक्रमकेदौरानउन्होंनेनेताजीकीअस्थियांजापानकेरेनकोजीमंदिर(RenkojiTemple)सेभारतलानेऔरदिल्लीकेलालकिलेपरस्थापितकरनेकीमांगउठाई।पवनकल्याणनेकहाकिसरकारेंबदलतीगईंलेकिनकिसीनेध्याननहींदिया।अबजनताकोआंदोलनकेमाध्यमसेयहतयकरनाहैकिनेताजीकीअस्थियांभारतलायीजासके।

दरअसल,पवनकल्याणहैदराबादकेशिल्पकलावेदीमेंआयोजितनेताजीपुस्तकसमीक्षाकार्यक्रममेंमुख्यअतिथिथे।पवननेइसअवसरपरबातकी।जनसेनानेतापवनकल्याणनेमांगकीकिटोक्योकेरेनकोजीमंदिरमेंनेताजीसुभाषचंद्रबोसकीअस्थियोंकोभारतलायाजाए।कल्याणनेकहाकिनेताजीसुभाषचंद्रबोसकीअस्थितयांअभीतकक्योंनहींलायीगईहैं।नेताजीकीअस्थियांलाकरलालकिलेमेंरखाजानाचाहिए।

पवनकल्याणनेयादकियाकितत्कालीनप्रधानमंत्रीवाजपेयीनेरेंकोजीमंदिरमेंएकआगंतुकपुस्तिकामेंलिखाथाकिएकदिननेताजीकीअस्थियांभारतलाईजाएंगी।उन्होंनेलोगोंसेहैदराबादसेआंदोलनशुरूकरनेकाआह्वानकियाक्योंकिअगरलोगचाहेंतोयहसंभवहोगा।उन्होंनेलोगोंसेअस्थियांलानेमेंनेताजीकासमर्थनकरनेकाआग्रहकिया।

पवनकल्याणनेयहभीकहाकिलोगभीनेताजीकीअस्थियोंकोजापानसेभारतलानेकेलिएसरकारपरदबावबनाएंऔरउसकेआनेतकजनआंदोलनजारीरखें।इतनाहीनहीं,उन्होंनेकहा,नेताओंपरदबावबनायाजानाचाहिएतभीनेताजीकाभारतलायाजानासंभवहोसकेगा।इसअवसरपरउन्होंनेराखकोलानेकीमांगकरतेहुएलालकिलेकेलिएहैशटैगरिंकोज़काअनावरणकिया।नेताजीनेकहाकिइसदेशकीसेवाओंकोउचितरूपसेमान्यतानहींदीगई।

उन्होंनेकहाकिकुछदिनोंपहलेदेशसेवामेंआनेवालोंकेलिएपत्थरकीतख्तियाँऔरमूर्तियाँस्थापितकीजारहीहैं।देशकेलिएअपनेप्राणोंकीआहुतिदेनेवालेस्वतंत्रतासेनानियोंकीसेवाओंकोयादनहींरखनेमेंशर्मआतीहै।उन्होंनेमांगकीकिनेताजीकेफोटोकोकमसेकमसौरुपयेकेनोटपरछापाजाए।उन्होंनेकहाकिहमइसदेशमेंरहनेकेलायकनहींहैंअगरहमउनमहानलोगोंकोयादनहींकरतेजिन्होंनेदेशकेलिएअपनीजानदेदी।उन्होंनेजयहिंदकानारालानेवालेनेताजी(नेताजीसुभाषचंद्रबोस)कीप्रशंसाकीऔरकहाकिस्वतंत्रतासंग्रामकेमद्देनजरसुभाषचंद्रबोसकाव्यापकविरोधहुआथा।नेताजीकीलगभग70प्रतिशतसेनादक्षिणभारतीयोंसेबनीहै।सुभाषचंद्रबोसकीमृत्युकेअंतिमक्षणतक,उन्होंनेदेशकेस्वतंत्रतासंग्रामकेविषयकोपढ़ाऔरसुना।