Girdhari Ram Ganjhu Death: गिरधारी गोंझू के इलाज में लापरवाही पर राज्यपाल द्रौपदी मूर्मू नाराज

रांची,राज्यब्यूरो।GirdhariRamGanjhuDeathराज्यपालद्रौपदीमुर्मूनेरांचीविश्वविद्यालयकेजनजातीयक्षेत्रीयभाषाविभागकेपूर्वविभागाध्यक्षप्रो.गिरिधारीरामगोंझूकेनिधनपरगहरादुःखएवंशोकव्यक्तकियाहै।उन्होंनेउनकेइलाजमेंबरतीगईलापरवाहीपरअत्यंतरोषव्यक्तकियाहै।उन्हेंजानकारीमिलीथीकिसमयपरउन्हेंबेडउपलब्धनहींहोपानेकेकारणउनकीमौतहोगई।राज्यपालनेकोरोनासेलड़नेतथामरीजोंकोत्वरितचिकित्सासुविधाउपलब्धकरानेकेलिएस्वास्थ्यविभागकीटीमकोपूरीसक्रियतासेकार्यकरनेकोकहाहै।

उन्होंनेकहाकिइसमहामारीसेकैसेबेहतरतरीकेसेसामनाकियाजासके,इसपरसरकारीवनिजीअस्पतालोंकोसंकल्पकेसाथआगेआनाहोगा।उन्होंनेस्वास्थ्यविभागकोकोरोनाजांचकीगतिमेंतेजीलानेकोभीकहाहै।साथहीकोरोनाजांचरिपोर्टसमयपरनहींमिलनेतथाबड़ीसंख्यामेंसैंपललंबितरहनेपरभीनाराजगीजाहिरकरतेहुएकहाहैकियहविभागकीखराबकार्यशैलीकोदर्शाताहै।

उन्होंनेटेस्टिंग,टेस्टिंगरिपोर्टऔरउपचारतीनोंबिंदुओंपरध्यानदेनेकीअत्यंतआवश्यकताबताई।उन्होंनेगिरधारीरामगौंझूकेनिधनपरकहाकिहमनेकोरोनामहामारीकेबीचउनकेजैसेविद्वानकोखोदिया।वेजनजातीयएवंक्षेत्रीयभाषाविभागकेविकासकेप्रतिसततप्रयासरतरहतेथे।रांचीविश्वविद्यालयकोउनकेसेवानिवृत्तिकेउपरांतभीउनकानिरंतरमार्गदर्शनप्राप्तहोतारहा।उनकानिधनशिक्षाजगतकेलिएअपूरणीयक्षतिहै।उन्होंनेशोकाकुलपरिवारकेप्रतिअपनीसंवेदनाव्यक्तकरतेहुएकहाकिईश्वरगिरिधारीरामगोंझूकीआत्माकोचिरशांतिप्रदानकरें।

गिरिधारीरामगौंझूनेविरासतऔरपहचानकोसहेजा:हेमंतसोरेन

मुख्यमंत्रीहेमंतसोरेननेरांचीविश्वविद्यालयकेक्षेत्रीयवजनजातीयभाषाविभागकेपूर्वअध्यक्षडा.गिरिधारीरामगौंझूकेनिधनपरगहरादुखव्यक्तकियाहै।मुख्यमंत्रीनेकहाकिराज्यकीनागपुरियासंस्कृति,नृत्य,गीतोंपरकिताबलिखकरउन्होंनेस्थानीयविरासतऔरपहचानकोसहेजनेकाकामकियाथा।झारखंडउनकेयोगदानकोसदैवस्मरणरखेगा।मुख्यमंत्रीनेपरमात्मासेउनकीआत्माकीशांतिऔरशोकसंतप्तपरिजनोंकोदुखकीइसघड़ीकोसहनकरनेकीशक्तिदेनेकीप्रार्थनाकीहै।

निधनपरजतायाशोक

झारखंडप्रदेशकांग्रेसकमेटीकेअध्यक्षडा.रामेश्वरउरांवनेसाहित्यकार,संस्कृतिकर्मीवरांचीविश्वविद्यालयकेजनजातीयएवंक्षेत्रीयभाषाविभागकेपूर्वविभागाध्यक्षरहेडा.गिरधारीरामगौंझूकेनिधनपरगहरीसंवेदनाप्रकटकीहै।उन्होंनेकहागौंझूनेकईनागपुरीसाहित्यकीरचनाकीऔरनागपुरीसाहित्यकोसमृद्धकरनेमेंमहत्वपूर्णभूमिकानिभाई।एकसाहित्यकारकेरूपमेंउन्होंनेजीवनपर्यंतजल,जंगल,जमीनकेलिएसंघर्षकियाएवंआदिवासियोंऔरवनोंमेंरहनेवालेवनवासियोंकेअधिकारकोलेकरजागरूककरतेरहे,कईपुस्तकेंभीउन्होंनेलिखी।राज्यकेलिएगौंझूजीकानिधनअपूरणीयक्षतिहैतोव्यक्तिगतरूपमेंउन्होंनेएकअच्छासाथीखोदियाहै।