घटनाओं से इंसान लेता है कि सबक : कंवर साहेब महाराज

जागरणसंवाददाता,भिवानी:एकहीदिनमेंकितनीऐसीघटनाएंहोतीहैजोयादकरनेयोग्यहोतीहैं।कुछऐसीहैजोजीवनकोनईदिशादेतीहैंऔरकुछऐसीभीहैंजिन्हेंहमस्मरणनहींकरनाचाहते।लेकिनसबकइंसानदोनोंहीघटनाओंसेलेसकताहै।जन्माष्टमीकादिनभीजनमानसकेलिएबहुतपाकपवित्रऔरउल्लासकाहै।इसीदिनयुगप्रेणताश्रीकृष्णनेअवतारलियाथाजिन्होंनेजनमानसकेकल्याणकेलिएअनेकलीलाएंरची।यहसत्संगवचनपरमसंतसतगुरुकंवरसाहेबमहाराजनेदिनोदधाममेंस्थितराधास्वामीआश्रममेंआयोजितसत्संगमेंफरमाए।

हुजूरकंवरसाहेबनेकहाकिइंसानपांचतत्वकापुतलाहै।मिट्टी,जल,अग्नि,वायुऔरआकाश।इंसानकाजीवनजबसमाप्तहोताहैतबअंतिमक्रियाभीइन्हीपांचोंतत्वोंसेहीहोतीहै।हरजातिजनजातिमेंइसकेअलगअलगसंस्कारहैंलेकिनसन्तोंकीकोईजातिनहींहोती।इसीलिएकबीरसाहबकोहिन्दूऔरमुसलमानोंनेअपनामाना।कबीरसाहबकीभांतिहीगुगापीरभीहैंजिनकीसभीधर्मोंमेंसमानमान्यताहै।गुरुमहाराजनेकहाकिमहापुरुषसृष्टिकोदिशादेतेहैं।श्रीकृष्णजिन्हेंब्रह्मकाअवतारमानाजाताहैआजकेदिनअवतरितहुएथे।परमात्माअधर्मकानाशकरनेवधर्मकीस्थापनाकेलिएधरापरआतेहैं।श्रीकृष्णकेगीताउपदेशकोभगवदगीताकेरूपमेंपांचवावेदमानागयाहै।श्रीकृष्णकेसतजीवनसेइंसानअनेकशिक्षाएंलेसकताहै।उन्होंनेकहाकिक्रोधइंसानकादुश्मनहै।क्रोधअगरआजायेतोउसकोशांतकरनेकाप्रयासकरनाचाहिएक्योंकिक्रोधमेंकियागयाकार्यकिसीकेलिएभीफलदायीनहींहोता।गुरुनेकहाकिपरमात्माकोतोआपकिसीभीरूपमेंयादकरलोलेकिनकरलो।उन्होंनेकहाकिअगरआपईष्र्यावघृणावशभीपरमात्माकोयादकरतेहोतोभीआपकाकल्याणहै।सन्तोंनेतोउनकेसाथबुराबर्तावकरनेवालोंकोभीशुभाशीषहीदिया।सन्तोंनेकिसीकाबुरानहींचाहा।सन्तसतगुरुतोजीवकाकर्मपूराकरवातेहैंजिससेउसकाआवनजानसेछुटकारामिलजाये।उन्होंनेकहाकिचौरासीकेफेरसेकोईनहींबचपाया।त्रेतायुगमेंश्रीरामचन्द्रनेछिपकरबालीकोमारातोइसकर्मकाकर्जपूराकरनेकेलिएद्वापरयुगमेंश्रीरामश्रीकृष्णकेरूपमेंआयेऔरबालीभीलकेरूपमें।इसयुगमेंभीलनेछिपकरश्रीकृष्णपरतीरचलाया।उन्होंनेकहाकियुगबीतजातेहैंलेकिनकर्मकाकर्जाखड़ारहताहै।केवलसन्तहीऐसेहैजोकर्मोंकोपूर्णकरकेजातेहैंऔरजीवोंकेभीकर्मकाटकरउनकाकल्याणकरतेहैं।