एमएससी भौतिकी व रसायन विज्ञान में 85 फीसद छात्र फेल

-मूल्यांकनमेंगड़बड़ीसेकईछात्रोंकोदो-तीनअंकतकमिले

-निर्धारितपूर्णांकसेअधिकअंकोंमेंजांचदीगईउत्तरपुस्तिकाएं

जागरणसंवाददाता,कानपुर:छत्रपतिशाहूजीमहाराजविविमेंएमएससीप्रथमवर्षकेभौतिकीवरसायनविज्ञानविषयमें85फीसदछात्रफेलहोगएहैं।मूल्यांकनमेंगड़बड़ीकेकारणकईछात्रोंकोदोसेतीनअंकतकमिलेहैं।न्यूस्कीमकोर्सकेतहतछात्रोंकीपरीक्षाहुईथी,लेकिनमूल्यांकनओल्डस्कीमकोर्समेंकरदियागया।सांख्यिकी,वनस्पतिविज्ञानसमेतएमएससीकेअन्यविषयोंमेंभीज्यादातरछात्रफेलहैं।डीएवी,पीपीएन,क्राइस्टचर्च,डीजीवएएनडीवअन्यकॉलेजोंमेंएमएससीप्रथमवर्षकापरीक्षापरिणामखराबआयाहै।

मूल्यांकनमेंगड़बड़ीकेचलतेशहरकेविभिन्नडिग्रीकॉलेजोंमेंछात्रछात्राओंनेहंगामाकरनेकेसाथहीप्राचार्यऔरविभागाध्यक्षोंसेइसकीलिखितशिकायतकीहै।छात्रोंनेबतायाकिपिछलेवर्षतकभौतिकविज्ञानकेएकप्रश्नपत्रकीलिखितपरीक्षाकामूल्यांकनसौअंकोंमेंकियाजाताथा।डीएवीकॉलेजकेप्राचार्यडॉ.अमितकुमारश्रीवास्तवनेबतायाकिन्यूस्कीममेंयह80अंकोंमेंकियाजानाथा।भौतिकविज्ञानमेंचारप्रश्नपत्रहैं,जिनकामूल्यांकन320अंकोंमेंकियागया,परकोरोनाकेचलतेद्वितीयप्रश्नपत्रकीपरीक्षानहींहुई।उसप्रश्नपत्रकेअंकनहींदिएगए,जबकिपूर्णाकजोड़लियागया।वहींप्रयोगात्मकअध्ययनकामूल्यांकन180अंकोंमेंहोनाथा,जिसे200अंकोंमेंकियागयाहै।

सांख्यिकीमेंएकभीछात्रपासनहीं

एमएससीसांख्यिकीमें500अंकोंमेंमूल्यांकनकियाजानाथा,जो420अंकोंमेंकियागया।एकप्रश्नपत्रडिजर्टेशनजिसेइसीवर्षसेशुरूकियागयाथा,उसेशामिलनहींकियागया।डिटर्जेशनकेआंतरिकमूल्यांकनकोनजोड़ेजानेसेएमएससीकेसभीछात्रइसमेंफेलकरदिएगए।

रसायनविज्ञानमें550अंकोंमेंकियागयामूल्यांकन

छात्रोंनेबतायाकिरसायनविज्ञानकीलिखितपरीक्षाकामूल्यांकनअधिकपूर्णाकमेंकियागया।पिछलेवर्षतकप्रथम,द्वितीयवतृतीयप्रश्नपत्र120-120अंकोंकेहोतेथे।चौथाप्रश्नपत्रसौवपांचवां90अंकोंकाहोताथा।इसकेअलावाप्रयोगात्मकपरीक्षा200अंकोंकीहोतीथी।इसबारसभीलिखितप्रश्नपत्र75वप्रयोगात्मक150अंकोंकाहोगयाहै।प्रयोगात्मकपरीक्षाकामूल्यांकन200अंकोंमेंकरदिया,जबकिलिखितपरीक्षाकेअंकभीपुरानेपूर्णांक550अंकोंकेआधारपरदिएगएहैं।वनस्पतिविज्ञानमें200कीप्रयोगात्मकवसौअंकोंकीलिखितपरीक्षाहोतीथी।इससाल70अंकोंकीथ्योरीव180अंकोंकाप्रैक्टिकलकरादियागया।इसविषयमेंभीपुरानेसिस्टमसेमूल्यांकनकियागयाहै।

अंकोंमेंगड़बड़ीकीकोईशिकायतनहींआईहै।अगरमूल्यांकनकोलेकरशिकायतआतीहैतोउसकानिस्तारणकियाजाएगा।

डॉ.अनिलकुमारयादव,कुलसचिवसीएसजेएमयू