एक देश एक चुनाव के विचार को विपक्ष बिना चर्च किये खारिज न करे : पीएम मोदी

नयीदिल्ली,26जून(भाषा)प्रधानमंत्रीनरेन्द्रमोदीनेलोकसभाऔरसभीराज्योंकीविधानसभाओंकेएकसाथचुनावकरानेकेविचारकोचुनावसुधारप्रक्रियाकाहिस्साबतातेहुयेबुधवारकोविपक्षीदलोंसे‘एकदेशएकचुनाव’केविचारकोचर्चाकियेबिनाहीखारिजनहींकरनेकीअपीलकी।मोदीनेराष्ट्रपतिअभिभाषणपरराज्यसभामेंधन्यवादप्रस्तावपरचर्चाकाजवाबदेतेहुयेकहा,‘‘चुनावसुधारकाकाम1952सेहीहोरहाहैऔरयहहोतेभीरहनाचाहिये।मैंमानताहूंकिइसकीचर्चाभीलगातारखुलेमनसेहोतीरहनीचाहियेलेकिनदोटूकयहकहदेनाउचितनहींहैकिएकदेशएकचुनावकेहमपक्षमेंनहींहै।’’उन्होंनेकहाकिइसपरचर्चाकियेबिनाहीइसविचारकोखारिजनहींकरनाचाहिये।मोदीनेकहाकिएकदेशएकचुनावकेविचारकोखारिजकरनेवालेतमामनेताव्यक्तिगतचर्चाओंमेंकहतेहैंकिइससमस्यासेमुक्तिमिलनीचाहिये।प्रधानमंत्रीनेकहाकिसभीदलोंकेनेताओंकीदलीलरहीहैकिपांचसालमेंएकबारचुनावकाउत्सवहोऔरबाकीकेसमयदेशकेकामहों।लेकिनसार्वजनिकतौरपरइसेस्वीकारनेमेंदिक्कतहोतीहोगी।उन्होंनेपूछा,‘‘क्यायहसमयकीमांगनहींहैकिकमसेकममतदातासूचीतोपूरेदेशकीएकहो।इससेजनताकेपैसेकीबहुतमात्रामेंबर्बादीकोरोकाजासकेगा।उन्होंनेइसेचुनावसुधारप्रक्रियाकाहिस्साबतातेहुयेकहाकिदेशमेंपहलेएकदेशचुनावहीहोताथाऔरकांग्रेसकोहीइसकासर्वाधिकलाभमिलनेकाहवालादेतेहुयेअबइसपरकांग्रेसकेविरोधपरआश्चर्यजताया।मोदीनेदेशऔरराज्यकेएकसाथचुनावकरायेजानेपरमतदाताओंकोअपनेमतकाफैसलाकरनेमेंदिक्कतहोनेकीविपक्षीदलोंकीदलीलकोनकारतेहुयेकहाकिओडिशाइसकासबसेताजाउदाहरणहै।प्रधानमंत्रीनेदलीलदीकिओडिशामेंअभीलोकसभाऔरविधानसभाकेएकसाथहुयेचुनावमेंमतदाताओंनेलोकसभाकेलियेएकमतदानकियाऔरविधानसभाकेलियेदूसरामतदानकिया।उन्होंनेकहाकिइसकामतलबसाफहैकिमतदाताओंमेंएकहीसमयअलगअलगसदनोंकेलियेमतदानकाफैसलाकरनेकाविवेकहै।मोदीनेएकसाथचुनावहोनेसेक्षेत्रीयपार्टियोंकेखत्महोनेकीदलीलोंकोभीभ्रामकबतातेहुयेकहाकिलोकसभाचुनावकेसाथजिनचारराज्योंमेंविधानसभाचुनावहुयेउनसभीमेंक्षेत्रीयदलोंकीहीसरकारबनी।उन्होंनेइसप्रकारकीदलीलोंसेबचनेकीअपीलकरतेहुयेकहा,‘‘किसीनयेविचारकोचर्चाकियेबिनाहीनकारदेनेसेबदलावनहींआसकताहै।भारतकेमतदाताकेनीर,क्षीरविवेकपरहमशकनहींकरें,यहमेरामतहै।’’प्रधानमंत्रीनेईवीएमऔरवीवीपेटकेविरोधमेंभीदीजारहीदलीलोंकोभीखारिजकरतेहुयेकहाकिविरोधीदलोंनेहरबातकासिर्फविरोधकरनाहीअपनाकामसमझलियाहै।चुनावकेदौरानईवीएमकेजरियेगड़बड़ीकरनेकेआरोपोंकीचर्चाकरतेहुएमोदीनेकहाकिएकसमयभाजपाभीमात्रदोसांसदोंपरपहुंचगयीथीकिंतुहमनेकभीइसतरहका‘‘रोना-धोनानहींकिया’’।मोदीनेकहाकिजबखुदपरभरोसानहो,सामर्थ्यनहोतथाआत्ममंथनकीतैयारीनहींहोतोईवीएमपरठीकराफोड़ाजाताहै।उन्होंनेकहाकिजबसेईवीएमकाउपयोगशुरूहुआहै,तबसेचुनावीहिंसाऔरचुनावीधांधलीखत्मभीहुईहै।उन्होंनेकहाकिजिनलोगोंनेईवीएमकोशुरूकिया,वेहीआजइसेलेकरशिकायतेंकररहेहैं।उन्होंनेस्वीकारकियाकिउनकीपार्टीनेभीएकसमयमेंईवीएमपरसवालउठायेथे।परबादमेंप्रौद्योगिकीकोसमझकरइसेअपनाया।उन्होंनेकांग्रेससेसवालकियाकिआपपराजयकोस्वीकारनहींकरपारहेहैं?‘‘आपकेसाथसमस्यायहहैकिआपजीतकोपचानहींसकतेऔरहारकोस्वीकारकरनेकीआपमेंसामर्थ्यनहींहै।’’प्रधानमंत्रीनेइसप्रवृत्तिकोरोकनेकीजरूरतपरबलदेतेहुयेकहाकिईवीएमहीनहींडिजिटललेनदेन,‘आधारकार्ड,जीएसटीऔरडिजिटलमैपिंगसहितसभीनयीतकनीकीजरूरतोंकाविरोधकियागया।मोदीनेकहाकिआधुनिकभारतबनानेकेकाममेंहमतकनीकसेकबतकेभागतेरहेंगे।उन्होंनेकहाकितकनीककेदुरुपयोगकोरोकनेकेउपायभीतकनीकसेहीमिलताहै,इसलियेनयीतकनीकसेदूरनहींरहाजासकताहै।