दो महत्वपूर्ण कृषि विधेयकों पर संसद ने लगाई मुहर, रास में विपक्ष ने किया भारी हंगामा

नयीदिल्ली,20सितंबर(भाषा)कृषिक्षेत्रसेजुड़ेदोमहत्वपूर्णविधेयकोंकोराज्यसभानेविपक्षीसदस्योंकेभारीहंगामेकेबीचरविवारकोध्वनिमतसेअपनीमंजूरीदेदी।सरकारद्वाराइनदोनोंविधेयकोंकोदेशमेंकृषिक्षेत्रसेजुड़ेअबतककेसबसेबड़ेसुधारकीदिशामेंउठायागयामहत्वपूर्णकदमबतायाजारहाहै।राज्यसभामें,विधेयकोंकीगहनजांचपड़तालकेलिएउन्हेंसदनकीएकसमितिकोभेजेजानेकीमांगकररहेविपक्षीसदस्योंनेभारीहंगामाकिया।उच्चसदनमेंहुएहंगामेकेकारणथोड़ेसमयकेलिएसदनकीकार्यवाहीस्थगितकरनीपड़ी।बादमेंसदननेकृषिउपजव्यापारऔरवाणिज्य(संवर्द्धनऔरसुविधा)विधेयक-2020औरकृषक(सशक्तिकरणएवंसंरक्षण)कीमतआश्वासनसमझौताऔरकृषिसेवापरकरारविधेयक-2020कोमंजूरीदेदी।येविधेयकलोकसभापहलेहीपारितकरचुकीहै।इसप्रकारइनविधेयकोंकोसंसदकीमंजूरीमिलगईहै,जिन्हेंअबराष्ट्रपतिकेपासहस्ताक्षरकेलिएभेजाजायेगाऔरराष्ट्रपतिकीमंजूरीमिलजानेपरइन्हेंअधिसूचितकरदियाजाएगा।प्रधानमंत्रीनरेन्द्रमोदीनेइनविधेयकोंकेपारितहोनेकोभारतीयकृषिकेइतिहासमें‘‘ऐतिहासिकदिन’’करारदिया।उन्होंनेइसबातपरजोरदियाकियेविधेयककृषिक्षेत्रमेंआमूलचूलबदलावलाएंगेऔरइससेकिसानोंकीआयदागुनीकरनेकेप्रयासोंकोमजबूतीमिलेगी।उधर,कांग्रेसऔरअन्यविपक्षीदलोंनेविधेयकोंकोपूरीतरहखारिजकरतेहुएइन्हेंकिसानोंकेलिए‘‘मौतकावारंट’’करारदियाऔरइसे‘‘लोकतंत्रमेंकालादिन’’बताया।विधेयकोंपरजोरदारबहसकेबादराज्यसभानेविपक्षीसदस्योंकेभारीहंगामेकेबीचइन्हेंपारितकरदिया।इसदौरानहंगामाकररहेकुछविपक्षीसदस्यकोविड-19प्रोटोकालकीअनदेखीकरतेहुएउपसभापतिहरिवंशकेआसनकीओरबढ़े,उन्होंनेनियमपुस्तिकाउनकीओरउछालीतथासरकारीकागजोंकोफाड़करहवामेंउछालदिया।बारह(12)विपक्षीदलोंनेबादमेंउच्चसदनमेंदोकृषिविधेयकोंकोपारितकरानेकेतरीकेकोलेकरउपसभापतिकेखिलाफअविश्वासप्रस्तावकानोटिसभीदिया।बादमेंविपक्षीसदस्योंके“अमर्यादितआचरण”कोलेकरकेंद्रसरकारकेवरिष्ठनेताओंनेरविवारकोउनकीआलोचनाकरतेहुएइसे“शर्मनाक”औरसंसदीयइतिहासमेंअभूतपूर्वकरारदिया।केंद्रीयमंत्रीराजनाथसिंह,प्रकाशजावड़ेकर,प्रह्लादजोशी,पीयूषगोयल,थावरचंदगहलोतऔरमुख्तारअब्बासनकवीनेविपक्षीसदस्योंपरनिशानासाधनेकेलियेयहांसंवाददातासम्मेलनकिया।सिंहनेकहाकिस्वस्थलोकतंत्रमेंऐसेआचरणकीउम्मीदनहींकीजाती।सिंहनेकहाकिविपक्षीसदस्योंनेनियमपुस्तिकाफाड़दी,आसनपरमौजूदराज्यसभाकेउपसभापतिहरिवंशकीडेस्कपरकागजफेंकेऔरआधिकारियोंकीटेबलपरचढ़गए।उन्होंनेकहाकिऐसाउन्होंनेपहलेकभीनहींदेखा।हरिवंशकीमूल्योंमेंआस्थारखनेवालेव्यक्तिकेतौरपरप्रशंसाकरतेहुएउन्होंनेकहाकिविपक्षीसदस्योंकाउनकेप्रति“दुर्व्यवहार”अभूतपूर्वथा।उन्होंनेपूछा,अगरविपक्षसहमतनहींभीथातोक्यायहउन्हें“हिंसक”होने,आसनपरहमलाकरनेकीअनुमतिदेताहै?कृषिविधेयककेविरोधमेंभाजपाकेसहयोगीशिरोमणिअकालीदलद्वारामोदीसरकारसेबाहरहोनेकेफैसलेकेबारेमेंपूछेजानेपरउन्होंनेकहाकिकुछफैसलोंकेपीछे“राजनीतिककारण”होतेहैं।उन्होंनेकहा,“मैंकिसानोंकोआश्वस्तकरनाचाहताहूंकिन्यूनतमसमर्थनमूल्य(एमसपी)औरकृषिउत्पादविपणनसमिति(एपीएमसी)जारीरहेंगी।यहकिसीभीकीमतपरकभीनहींहटाएजाएंगे।”विधेयकोंकेपारितहोनेकेतुरंतबादभाजपाअध्यक्षजेपीनड्डातथाअन्यवरिष्ठपार्टीनेताओंनेकहाकिइससेकिसानोंकोअपनीउपजबेचनेकीआजादीकेसाथहीबिचौलियोंसेछुटकारामिलेगा।उधर,विधेयकोंकेविरोधमेंमोदीसरकारसेपिछलेसप्ताहमंत्रीपदसेइस्तीफादेनेवालीहरसिमरतकौरबादलकीपार्टीशिरोमणिअकालीदल(शिअद)केप्रमुखसुखबीरसिंहबादलअपनेरूखपरअड़ेरहेऔरउन्होंनेराष्ट्रपतिसेविधेयकोंपरहस्ताक्षरनहींकरनेकीअपीलकी।उन्होंनेअपीलमेंकहाकिराष्ट्रपतिविधेयकोंकोपुनर्विचारकेलियेसंसदकोलौटादें।विधेयकोंकाविरोधकरतेहुएकांग्रेसनेताराहुलगांधीनेट्वीटकिया,‘‘सरकारनेजिसतरीकेसेदोविधेयकोंकेरूपमेंकिसानोंकीमौतकेवारंटोंकोपारितकरायाहै,उससेलोकतंत्रशर्मिंदाहुआहै।’’इसबीच,पंजाबऔरहिरयाणामेंकिसानोंनेविभिन्नराजनीतिकऔरकिसानोंसेजुड़ेसंगठनोंकेबैनरतलेजगहजगहइनविधेयकोंकाविरोधकरतेहुएप्रदर्शनकिएऔरसड़कोंकोअवरूद्धकरदिया।भारतीयकिसानयूनियन(बीकेयू)कीहरियाणाईकाईनेकुछअन्यकिसानसंगठनोंकेसाथतीनघंटेतकराज्यव्यापीप्रदर्शनकिए।पंजाबयुवाकांग्रेसनेभीपंजाबसेदिल्लीकेलिएट्रैक्टररैलीनिकाली।राज्यसभामेंसमस्यातबशुरुहुई,जबसदनकीबैठककासमयविधेयककोपारितकरनेकेलिएनिर्धारितसमयसेआगेबढ़ादियागया।विपक्षीसदस्यों,कामाननाथाकिइसतरहकाफैसलाकेवलसर्वसम्मतिसेहीलियाजासकताहैऔरवेसरकारकेखिलाफनारेबाजीकरतेहुएसभापतिकेआसनकेसामनेइकट्ठाहोगये।उन्होंनेसरकारपरकिसानविरोधीहोनेकाआरोपलगाया।हंगामेकेकारणकृषिमंत्रीनरेंद्रसिंहतोमरकोसंक्षेपमेंअपनीबातरखनीपड़ीतथाउपसभापतिहरिवंशनेविधेयकोंकोपरितकरानेकीप्रक्रियाशुरुकरदी।विपक्षद्वाराव्यापकजांचपड़तालकेलिएलायेगयेचारप्रस्तावोंकोध्वनिमतसेनकारदियागया।लेकिनकांग्रेस,तृणमूल,माकपाऔरद्रमुकसदस्योंनेइसमुद्देपरमतविभाजनकीमांगकी।उपसभापतिहरिवंशनेउनकीमांगकोठुकरातेहुएकहाकिमतविभाजनतभीहोसकताहैजबसदस्यअपनीसीटपरहों।तृणमूलनेताडेरेकओब्रायननेआसनकीओरबढ़तेहुएनियमपुस्तिकाउपसभापतिकीओरउछालदी।सदनमेंखडेमार्शलोंनेइसकोशिशकोनाकामकरतेहुएउछालीगईपुस्तिकाकोरोकलिया।माइक्रोफोनकोखींचनिकालनेकाभीप्रयासकियागयालेकिनमार्शलोंनेऐसाहोनेसेरोकदिया।द्रमुकसदस्यतिरुचिशिवा,जिन्होंनेओ'ब्रायनकेसाथऔरकांग्रेसकेके.सी.वेणुगोपालऔरमाकपासदसयके.के.रागेशकेसाथमिलकरविधेयकोंकोप्रवरसमितिकोभेजनेकाप्रस्तावकियाथा,उन्होंनेकागजातफाड़करहवामेंउछालदिए।उपसभापतिहरिवंशनेसदस्योंकोअपनेस्थानोंपरवापसजानेऔरकोविड-19केकारणआपसमेंदूरीबनानेकीआवश्यकताकोध्यानमेंरखकरआसनकेसमीपनहींआनेकेलिएकहाथालेकिनउन्होंनेहंगामाथमतानदेखपहलेसदनकीलाइवकार्यवाहीकेऑडियोकोबंदकरवादियाऔरफिरकार्यवाहीको15मिनटकेलिएस्थगितकरदी।जबसदनकीकार्यवाहीदोबाराशुरुहुई,तोविपक्षीदलोंनेनारेलगाएलेकिनवेहरिवंशकोध्वनिमतसेविधेयककोपारितकरनेकेलिएरखनेसेरोकनहींपाये।विपक्षीदलोंद्वारालायेगयेसंशोधनोंकोखारिजकरतेहुएदोनोंविधेयकोंकोध्वनिमतसेपारितकरदियागया।