DETAIL: कन्फ्यूज ना हों, आज का फैसला मस्जिद गिराए जाने को लेकर है

लखनऊ:आजलखनऊमेंजोगहमागहमीहैऔरइसकीवजहबीजेपीकेकईदिग्गजनेतासीबीआईकीविशेषअदालतमेंपेशहोरहेहैंऔरइसपेशीकीवजहमस्जिदगिराएजानेकोलेकरहै,नकिराममंदिरऔरबाबरीमस्जिदकोलेकरहै.

दरअसल,बीतेदिनोंसुप्रीमकोर्टनेअयोध्यामेंविवादितढांचागिरायेजानेकोलेकरबीजेपीऔरहिंदूवादीनेताओंकेखिलाफआपराधिकसाजिशकाकेसचलानेकीमंजूरीदीथी.अबइसीकड़ीमेंविशेषकोर्टइननेताओंकेखिलाफआरोपतयकरेगा.

आपकन्फ्यूजनाहों,यहकेसरामजन्मभूमिविवादपरनहींहै.आजजोआरोपतयहोंगेवोउसआपराधिकसाजिशकोलेकरहैजो6दिसंबर1992कोहुआथा.इसकेसमें बीजेपीकेबड़ेनेतालालकृष्णआडवाणी,मुरलीमनोहरजोशी,कल्याणसिंहसमेतकईनेताओंपरसाज़िशकीधाराकेतहतआरोपतयहोनेहैं. इसमामलेमेंकुल21बड़ेनेताआरोपीथे,जिनमेंसे5 अबइसदुनियामेंनहींहैं.

आसानशब्दोंमेंकहेंतोआजकाफैसलाविवादितढांचातोड़नेकीसाजिशपरहै.मतलबयहएकआपराधिकसाजिशकाकेसहै.वोसाजिशजिसकीवजहसे6दिसंबर1992कोघटनाघटी.मतलबयहकेस6दिसंबर1992केघटनापरआधारितहै. यहांआपपढ़ेंकिआखिर6दिसंबर1992कोक्याहुआथा?

यहांसमझेपूरामामला

बाबरीमस्जिदगिरानेकोलेकरदोकेसदर्जहैं.

पहलीFIR-1992मेंअयोध्यामेंबाबरीमस्जिदगिराएजानेकेबाददोएफआईआरदर्जहुईथी.एफआईआरसंख्या197लखनऊमेंदर्जहुई.येमामलाढांचागिरानेकेलिएअनामकारसेवकोंकेखिलाफथा.

दूसरीFIR-दूसरीएफआईआरयानीएफआईआरनंबर198कोफैज़ाबादमेंदर्जकियागया.बादमेंइसेरायबरेलीट्रांसफरकियागया.इसएफआईआरमेंआठबड़ेनेताओंकेऊपरमंचसेहिंसाभड़कानेकाआरोपथा. येबड़ेनेतालालकृष्णआडवाणी,मुरलीमनोहरजोशी,साध्वीऋतम्भरा,गिरिराजकिशोर,अशोकसिंहल,विष्णुहरिडालमिया,उमाभारतीऔरविनयकटियारथे.

वहांमंदिरबनेगायामस्जिदबनेगा..याविवादितजन्मभूमिकिसकेहिस्सेजाएगायहकेसअलगहै.इसकेसकाआजकेफैसलेसेकोईलेनादेनानहींहै.अबआपकेमनमेंसवालउठरहाहोगाकिजन्मभूमिविवादक्याहै?

बाबरी-जन्मभूमिविवादक्याहै?

कमशब्दोंमेंसमझिएकि1949मेंविवादितढांचेमेंरामलल्लाकीमूर्तिअचानकप्रकटहुई.इसपरहिन्दुओंऔरमुसलमानोंकेबीचविवादहुआ.इसमुसलमानोंसेएफआईआरदर्जकराईकियहमूर्तियांबाहरसेलाकररखीगईहैं.निचलीअदालतनेवहांतालालगादिया.इसकेदससालबादनिर्मोहीअखाड़ेनेविवादितढांचेपरअपनामालिकानाहकजतातेहुएमुकदमादर्जकराया.फिरसुन्नीवक्फबोर्डनेअपनाहकजताया.कोर्टनेयथास्थितिबनायेरखनेकेआदेशदिये.1986तकस्थितिबनीरहीफिरतत्कालीनप्रधानमंत्रीराजीवगांधीनेतालाखुलवादिया.दूसरामोड़1989मेंआयाजबराजीवगांधीसरकारनेहीशिलान्यासकीअनुमतिदी.सबसेअहमफैसला,2010मेंइलाहाबादहाईकोर्टनेविवादकोसुलझानेकेलिएएकबीचकारास्तानिकालाथा,लेकिनउसफैसलेकेबादभीस्थितिअभी6सालपहलेवालीहीबनीहुईहै.

इलाहाबादहाईकोर्टनेविवादित2.77एकड़भूमिकोतीनबराबरहिस्सोंमेंबांटनेकाफैसलासुनायाथा,राममूर्तिवालाहिस्सारामललाविराजमानको,रामचबूतराऔरसीतारसोईकाहिस्सानिर्मोहीअखाड़ाकोऔरतीसराहिस्सासुन्नीवक्फबोर्डकोदेनेकाआदेशदियाथा.मतलबकुलमिलाकरयहकेसअलगहै..औरआजवालाफैसलाजोआयाहैवहढांचागिरानेकीसाजिशमतलबआपराधिककेसहै.

कोर्टकेआजके आदेशकाअसरनेताओंकेभविष्य़परपड़नातयहै. अबजरासियासीनजरियेसेदेखिएकिफैसलेकाअसरक्याहोगा?

आडवाणीसांसदहैंऔरराष्ट्रपतिपदकेलिएनामचलरहाहै. मुरलीमनोहरजोशीभीसांसदहैंऔरइनकानामभीराष्ट्रपतिकीरेसमेंहै. उमाभारतीमोदीसरकारमेंजलसंसाधनमंत्रीहैं,अभीउन्होंनेइस्तीफेसेइनकारकियाहै. कल्याणसिंहराजस्थानकेराज्यपालहैं.संवैधानिकपदपरहैंइसलिएअभीकेसनहींचलेगा.केसचलनेसेराष्ट्रपतिकीरेसमेंआडवाणी,जोशीबाहरहोजाएंगे.उमाभारतीपरविपक्षइस्तीफेकादबावबनाएगा. राष्ट्रपतिचुनावसेहटानेकेलिएबाबरीमामलेमेंआडवाणीकेखिलाफकेसपीएममोदीकीसाजिशःलालूयादव