देशविरोधी नारों का समर्थन हिदुओं के लिए दुर्भाग्य की बात : ऋतंभरा

मोतिहारी।सुप्रसिद्धकथावाचिकावसनातनधर्मकीप्रखरओजस्वीवक्तासाध्वीऋतंभरानेकहाकिदेशकीआजादीके70सालबादजबअपनेदेशकोदेखतीहूंतोकाफीदु:खहोताहै।जेएनयूमेंभारततेरेटुकड़ेहोंगेजैसानारालगानेवालेकाहिन्दूभीसाथदेरहेहै।यहहिदुओंकेलिएदुर्भाग्यकीबातहै।हिन्दूधर्मकोकमजोरकरनेकासाजिशहै।यदिभारतकेअसलीअर्थकोसमझनाहैतोपहलेभारतीयहोनाहोगा।वेयहांफुलवरियामेंाआयोजितनौकुंडीयअतिरुद्रमहायज्ञपरिसरमेंरविवारकोप्रवचनकररहीथी।उन्होंनेकहाकियदिहमसमृद्धनहींहोतेतोयहांलुटेरेक्योंआते?बिहारमेंभगवानबुद्धनेदयावक्षमाकासंदेशदिया।भारतमेंराजाओंमेंमारकाटमचाथा,तबभीचारोंओरधर्मकेलिएअनुष्ठानहोरहेथे।यहहमारेसंस्कारकोपरिलक्षितकरताहै।क्षत्रपतिशिवाजीमहाराजजबअपनेदुश्मनोंकीपुत्रियोंकोपालकीपरभेजरहेथेतोवेउसेदेखनेलगेऔरबोलेकिकाशमैंतेरीकोखसेजन्मलेतातोमैंभीखूबसूरतहोता।यहांस्त्रियोंकोभीदेवीमानाजाताहैऔरउसकीपूजाकीजातीहै।आजदुनियाभारतकीसभ्यतावसंस्कृतिदेखनेआतीहै।भारतकीस्त्रियांकैसीहोतीहैयहजाननेआतीहै।मगरहमआयातितसंस्कृतिकीओरभागरहेहैं।भगतसिंहकोजबफांसीहुईतोउनकेमांकेआंखमेंआंसूथेतोउनसेपूछाकिक्योंरोरहीहो।उन्होंनेकहाकिएकऔरभगतसिंहजैसाबेटाहोतातोदेशकेलिएउसेभीदेकरधन्यहोजाती।उन्होंनेकहाकिभारतकोपुनर्जीवितकरनाहै।इसलिएइसतरहकामहायज्ञहोरहाहै।मौकेपरभाजपाकिसानमोर्चाकेप्रदेशअध्यक्षअखिलेशकुमारसिंह,अश्वमेघपीठाधीश्वरउपेंद्रपरासरजीमहाराज,भाजपाजिलाध्यक्षप्रकाशअस्थाना,मुखियाअवधेशकुशवाहा,जिलामहामंत्रीप्रदीपसर्राफ,प्रखंडमुखियासंघउपाध्यक्षप्रभाकरमिश्र,प्रमोदशंकरसिंह,संतोषजायसवाल,पैक्सध्यक्षसंजीवशर्मा,संतोषमिश्रा,जयकांतमिश्र,रजनीशझा,प्रेमकुमारमिश्र,बुचुनतिवारी,उपमुखियारौशनझा,हेमनारायणझा,रविमिश्र,शैलेशकुशवाहा,रौशनगुप्ता,रोचकझा,,विजयकुशवाहा,बिकूकुमार,मुकेशगुप्ता,दिलीपशर्माआदिमौजूदरहे।

श्रीकृष्णवराधाकेकावर्णनसुनभावविभोरहुएश्रद्धालु

सुगौली,संस:यहसंसारमोहमायाकाजालहैऔरसभीलोगइसीमेंफंसजातेहैं।जबतकतनमेंप्राणहैतबतकघरपरिवार,रिश्तेदारवमित्रयादकरतेहैं।लेकिनजैसेहीप्राणनिकलजाताहैवहव्यक्तिसाथकुछलेकरनहींजाताहै।उक्तबातेंप्रखंडकेफुलवरियामेंआयोजितनवकुंडीयअतिरुद्रमहायज्ञपरिसरमेंश्रीमदभागवतकथामेंरविवारकोसुप्रसिद्धकथावाचकसाध्वीसत्यप्रियादीदीनेकही।उन्होंनेकृष्णराधाकेप्रेमवगोपियोंकेसाथकीगईलीलाकावर्णनकिया।वहींकलाकारोंद्वाराप्रस्तुतकीगईझांकी,जिसपरश्रोतामंत्रमुग्धहोगए।