Delhi: बेरोजगारी से परेशान शिक्षक ने त्योहार मनाने के लिए साथियों को लिखा खत

नईदिल्ली[रीतिकामिश्रा]। कोरोनामहामारीकेचलतेदिल्लीमेंसभीसरकारीऔरनिजीस्कूलबंदहैं।फिलहालस्कूलोंकोबंदकरनेकीस्थिति30नवंबरही,हालांकिदिल्लीकेशिक्षामंत्रीमनीषसिसोदियानेइसअनिश्चितकालकेलिएबंदकरेकाएलानकियाहै।वहींलॉकडाउनकेदौरानसेहीरोजपढ़ाकरकमानेवालेज्यादातरअतिथिशिक्षकबेरोजगारहोगएहैं।उनकेपासकमानेकाकोईजरियाहीनहींरहा।कईनेतोसब्जीकाठेला,पंचरकीदुकानखोलकर,अचारबेचकरऔरपकौड़ेतलकरअपनावअपनेघरवालोंकापेटपाला।उनमेंसेकईऐसेभीहैबेरोजगारीकेचलतेत्योहारतकनहींमनासके।

ऐसेहीनजफगढ़,झड़ोदाकलाऔरसमालखास्थितजीबीएसएसस्कूलोंमेंविज्ञानपढ़ाचुकेअतिथिशिक्षकदिनेशबाबूनेबेरोजगारीसेपरेशानहोकरशिक्षानिदेशालयकेअंतर्गतकार्यरतसभीशिक्षकोंकोएकपत्रलिखाहै।पत्रमेंउन्होंनेअपनीपरेशानीबयांकीहै।दिनेशकेमुताबिकसीटीईटीपरीक्षाउत्तीर्णनहोपानेकेकारणलॉकडाउनकेदौरानउन्हेंकार्यमुक्तकरदियागयाथा।उन्हेंउनकेकार्यकावेतनभीनहींदियागयाथा।

उन्होंनेपरिवारकेपालन-पोषणकेलिएअपनेदोमित्रोंसेकरीब20हजाररुपयेउधारलिएथे।रुपयेलौटानेकेलिएउन्होंनेनौकरीसेकार्यमुक्तकिएजानेकेबाद300रुपयेरोजानाकीमजदूरीकी।अबतकउन्होंनेअपनेएकमित्रको12हजाररुपयेवापसभीकरदिएहैं।हालांकि,दूसरेमित्रकेरुपयेअभीवापसकरनेबाकीहैं।

दिनेशकेमुताबिकदीवालीकेआसपासउन्हेंकामनहींमिलाथा।जिसकेचलतेउनकेपासत्योहारमनानेतककेपैसेनहींथे।उन्होंनेअपनेसभीमित्रशिक्षकोंसेपत्रलिखकरदोहजाररुपयेउधारमांगेथे,ताकिवहअपनेपरिवारकेसाथत्योहारमनासके।

Coronavirus:निश्चिंतरहेंपूरीतरहसुरक्षितहैआपकाअखबार,पढ़ें-विशेषज्ञोंकीरायवदेखें-वीडियो