चंडीगढ़ के वरुण ने ऐसे दी महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि, नमक से बनाया 25 फीट लंबा पोट्रेट

चंडीगढ़[शंकरसिंह]। ब्रिटिशहुकूमतकेविरुद्ध12मार्च1930कोसाबरमतीआश्रमसेनमकसत्याग्रहकीशुरुआतहुईथी।इससत्याग्रह केसाथमहात्मागांधीनेपूरेदेशकोजोड़ा।गांधीजयंतीसेपूर्वकलाकारवरुणटंडनने25फीटलंबापोट्रेटबनाकरमहात्मागांधीकोश्रद्धांजलिदी।

उन्होंनेयहपोट्रेटपूरीतरहनमकसेतैयारकियाहै।वरुणनेकहाकिउन्हेंविभिन्नहस्तियोंकाअपनेहीअंदाजमेंपोट्रेटबनानेकाशौकहै।महात्मागांधीपरउन्हेंदांडीयात्रायादआई।जिसकेतहतउन्होंनेनमककेद्वारामहात्मागांधीकापोट्रेटतैयारकिया।यहपोट्रेटउन्होंनेगांधीस्मारकभवनसेक्टर16मेंस्थितगांधीम्यूजियममेंबनाया।

दोकिलोनमकसेतैैयारकियापोट्रेट

वरुणनेकहाइसपोट्रेटकोबनानेमेंउन्हें4घंटेकावक्तलगा।2किलोनमकसेउन्होंनेपोट्रेटतैयारकिया।वरुणबोलेकिइसकोबनानेमेंएकहीदिक्कतथीनमककासफेदरंगहाईलाइटकरनेकेलिएइसकेनीचेकालेबेसकीजरूरतथी।इसकेलिएउन्होंनेपोस्टरकाइस्तेमालकिया।पोस्टरकोकालेरंगमेंपेंटकरकेपहलेनीचेबिछायाइसकेबादऊपरनमकसेमहात्मागांधीकीआकृतितैयारकी।वरुणनेकहाकियहपोट्रेटशुक्रवारकोभीस्मारकभवनमेंआनेवालेशहरवासियोंकेदेखनेकेलिएउपलब्धरहेगा।

कईप्रतिष्ठितलोगोंकेबनाचुकेहैंदिलचस्पपोट्रेट

मूलरूपसेपंजाबकेजालंधरकेरहनेवाले वरुणपिछलेकईवर्षोंसेपोट्रेटबनारहेहैं।इससेपहलेउन्होंनेस्वर्गीयबलबीरसिंहसीनियरकापोर्ट्रेटबनाया,जिसेउन्होंनेहॉकीस्टिककेटुकड़ोंकोमिलाकरबनाया।इसकेअलावाउन्होंनेस्वर्गीयदारासिंहकापोट्रेटपिन्नीकेद्वाराबनाया।साथहीस्व.जसपालभट्टीकाभीपोट्रेटउन्होंनेस्माइलीकोजोड़करबनाया।

वरुणनेकहाकिउन्हेंअलग-अलगमैैटेरियलसेकामकरनेमेंमजाआताहै।वहअक्सरविभिन्नसामाजिकमुद्दोंपरभीतंजकसतेहुएपोट्रेटबनातेहैं।हालहीमेंवरुणनेशहीदभगतसिंहकापोट्रेटमाचिसकीतीलियोंसेबनाया।उन्होंनेकहाकिहरशख्सियतकीअपनीखासियतहोतीहै,ऐसेमेंउनकापोट्रेटबनातेहुएउनकीखासियतसेजुड़ाहुआमेटेरियललेतेहैंऔरपोट्रेटकोबनातेहैं।

ਪੰਜਾਬੀਵਿਚਖ਼ਬਰਾਂਪੜ੍ਹਨਲਈਇੱਥੇਕਲਿੱਕਕਰੋ!