चांद का हुआ दीदार, माह-ए-रमजान का आज से आगाज

जागरणसंवाददाता,चतरा:चांदकादीदारहोतेहीमुस्लिमधर्मावलंबियोंकाएकमहीनातकचलनेवालापवित्ररोजाकाआगाजहोगया।चेतनाऔरजागरूकताकेमहापर्वकोलेकरमुस्लिमबहुलक्षेत्रोंमेंउल्लासऔरउमंगकावातावरणहै।मस्जिदोंमेंनमाजियोंकीभीड़उमड़नेलगीहै।चांददिखतेहीतरावीहभीशुरूहोगईहै।शहरकेसभीमस्जिदोंकेअलावाकुछअन्यस्थानोंपरभीतरावीहकीनमाजहोरहीहै।कुलमिलाकरकरीबचालीसस्थानोंपरशहरमेंतरावीहपढ़ीजारहीहै।इनमेंसेकुछस्थानोंपरसातदिनोंमें,तोकुछस्थानोंपर27दिनोंमेंतरावीहपढ़ीजाएगी।काजी-ए-शहरसहअरबीकालेजकेप्राचार्यमुफ्तीनजरेतौहीदनेकहाकिरोजाकीअहमियतबहुतबड़ीहै।रोजासीधेतौरपरअल्लाहताआलाकेसाथबंदोंकेरिश्तोंकोनसिर्फजोड़ताहै,बल्किऔरमजबूतभीकरताहै।इसलिएरोजाकीपाबंदीकरनीचाहिए।हरबालिगमुस्लिमपुरुषऔरमहिलाकोइसकाएहतेरामकरनाचाहिए।उन्होंनेकहाकिसालकेसभीमहीनोंमेंसबसेअफजलरमजानकामहीनाहै।उन्होंनेकहाकिरमजानकेमहीनामेंअल्लाताआलारहमतोंऔरबरकतोंकीबरसातकरतेहैं।एककेबदलेसत्तरनेकियां(पुण्य)मिलतेहैं।रोजाकीअहमियतपररोशनीडालतेहुएकाजी-ए-शहरनेआगेकहाकियहपूरामहीनाइबादतकाहै।उन्होंनेकहाकिवैसेभीदुनियाकेप्राय:सभीधर्मोंमेंउपवासकीअनिवार्यताहै।बसफर्कयहहैकिइसकीअदायगीकातरीकाअलग-अलगहै।मुसलिमधर्मावलंबीजहांइसेरोजाकहतेहैं,वहींहिदूधर्ममेंउसेउपवासऔरव्रतकहतेहैं।उन्होंनेकहाकिमुसलमानोंकेलिएयहमहीनाइसलिएअफजलहैकिरामजानकेमहीनामेंहीअल्लाहतआलानेकुरानएपाककोनोजूलफरमायाहै।उन्होंनेकहाकिरमजानकापूरामहीनातीनहिस्सोंमेंबंटाहुआहै।प्रथमदसदिनरहमतहै।ग्यारहसेबीसवेंतीनअर्थातदूसरादसदिनबरकतकाहोताहैऔरअंतिमदसदिनअर्थातइक्कीसकेबादमगफिरतकाहोताहै।