बिहार की अदालत ने 108 साल पुराने भूमि विवाद संबंधी मामले पर फैसला सुनाया

पटना,19मई(भाषा)बिहारकेभोजपुरजिलेकीएकअदालतने108सालपुरानेतीनएकड़जमीनकेएकटुकड़ेकोलेकरएकदीवानीविवादकोनिपटादियाहै।अतिरिक्तजिलाऔरसत्रन्यायाधीशश्वेतासिंहनेअतुलसिंहकेपक्षमेंफैसलासुनाकरउसकेपरदादादरबारीसिंहकेसाथ1914मेंशुरूहुईकानूनीलड़ाईकोसमाप्तकिया।वादीकेवकीलसतेंद्रसिंहनेसंवाददाताओंसेबातचीतकेदौरानन्यायाधीशकोइसकेलिएबधाईकापात्रबतातेहुएकहाकिमामलेसेसंबंधितदस्तावेजोंकोकीट-पतंगोंद्वाराखालियेजानेकेबावजूदउन्होंनेउन्हेंखंगालनेकीपरेशानीउठाईऔरआखिरकार11मार्चकोफैसलासुनाया।उन्होंनेकहाकिदरबारीसिंहनेनथुनीखानकेपरिवारकेसदस्योंसेउक्तजमीनखरीदीथी,जोकोइलवारनगरपंचायतक्षेत्रमेंआतीहै।उन्होंनेबतायाकि1911मेंखानकीमृत्युहोगईथीऔरउनकेआश्रितअपनीसंपत्तिकेअधिकारोंकोलेकरआपसमेंझगड़तेरहेथे।भूमिनौएकड़कीउससंपत्तिकाहिस्साथीजोकानूनीपचड़ेमेंफंसगईथीऔरब्रिटिशऔपनिवेशिकसरकारद्वाराजब्तकरलीगईथी।वकीलनेकहा,‘‘न्यायाधीशनेकहाकिमेरेमुवक्किलअतुलसिंहअपनीजमीनछुड़ानेकेलिएसंबंधितअनुमंडलदंडाधिकारीकेपासजासकतेहैं।’’उन्होंनेकहा,‘‘खानकेपरिवारकाकोईभीसदस्ययहांनहींहै।वेसभीविभाजनकेबादपाकिस्तानचलेगएथे।मेरेमुवक्किलोंनेचारपीढ़ियोंसेमुकदमालड़ाहै।’’उन्होंनेकहा,‘‘मुझेइसबातकासंतोषहैकिमैंनेमामलेकाफैसलाहोतेदेखाहै।इसेसबसेपहलेमेरेदादाशिवव्रतनारायणसिंहनेलियाथा,जिनकीमृत्युकेबादमेरेदिवंगतपिताबद्रीनारायणसिंहइसमामलेमेंवकीलकेरूपमेंपेशहुएथे।’’