बदली-बदली नजर आई अस्पताल की फिजा, खामियां ढूंढती रही एनक्वास की टीम

जागरणसंवाददाता,अंबाला

छावनीकेनागरिकअस्पतालमेंसोमवारकोएंट्रीसेलेकरडॉक्टरोंकेकमरेंहीनहींबल्किशौचालयोंतकमेंबदली-बदलीसीफिजानजरआई।सभीडॉक्टरहीनहींबल्किअन्यसारेस्टाफकर्मीभीफुलड्रेसमेंदिखे।मौकाथाअस्पतालमेंनेशनलक्वालिटीएश्योरेंसस्टैंडर्ड(एनक्वास)अवॉर्डमूल्याकंनसर्वेटीमकानिरीक्षणकरनेकेदौरानका।सुबह8:30बजेसेदोपहरतकएक-एककमरेकाअच्छेसेनिरीक्षणकररहीटीमछोटीसेछोटीखामियांढूंढतीरही।लेकिनइक्का-दुक्काखामीकोछोड़करकिसीतरहकीकोईबड़ीलापरवाहीसामनेनहींआई।हालांकिअबमंगलवारसुबहफिरसेयहटीमअस्पतालमेंखामियांढूंढनेकेलिएनिरीक्षणकरनाशुरूकरेगी।क्योंकिइसनिरीक्षणकेबादपूरेप्रदेशमेंपहलेस्थानपररहनेवालेअस्पतालकोकरीब50लाखरुपयेकाइनाममिलेगा।वहींपहलेदिनअस्पतालमेंमरीजोंकीभीड़देखकरटीमकेसदस्यकाफीआचंभितथे।

इसटीममेंपटनामेडिकलएंडकॉलेजअस्पतालकेकंसलटेंटआलोकरंजनऔरदिल्लीकेजेबीपंथइंस्टीच्यूटकीडायरेक्टरएवंप्रोफेसरपूनमनारंगअपनेअन्यसदस्योंकेसाथसुबह8:30बजेहीनिरीक्षणकेलिएअस्पतालमेंपहुंचगए।पहलेदिनटीमनेअस्पतालकीइमरजेंसीवार्ड,फार्माओपीडीकेअलावारेडियोलॉजिस्टविभागकानिरीक्षणकिया।उन्होंनेअस्पतालमेंमरीजोंकोदीजानेवालीसेवाओंसेलेकरसरकारद्वाराचलाईजारहीयोजनाओंकोलेकरअस्पतालद्वाराकिएजारहेकार्यकोबारिकीसेदेखा।टीमनेओपीडीवइमरजेंसीमेंकईमरीजोंसेभीबातचीतकी।हालांकिअस्पतालमेंमरीजोंकोदीजारहीसुविधाएं,बि¨ल्डगऔरइंफ्रास्ट्रक्चरदेखकरटीमनेकाफीतारीफभीकी।

निरीक्षणमेंयहरहेहालात

टीमनेइमरजेंसीवार्डकानिरीक्षणकियाजहांपरवार्डमेंमरीजकेआनेसेलेकरउसकोदीजानेवालीसेवाओंऔरकिसतरहसेमरीजकोऑपरेटकियाजाताहैइसकेबारेमेंभीस्टाफसेबातकी।रिकॉर्डकोखंगालतेहुएमरीजकोदिएगएउपचारकेबारेमेंभीपूछताछकी।इसीतरहलेबररूममेंप्रसूतिविभागमेंमहिलाओंकोदीजानेवालीसेवाओंकेसाथ-साथफैमिलीप्ला¨नगकेबारेमेंपताकिया।पहलेदिनकेनिरीक्षणमेंटीमनेस्वास्थ्यविभागऔरनागरिकअस्पतालकेडॉक्टरवस्टाफकोकईसुझावभीदिए।कमरोंकेअंदरलगेफायरसेफ्टीसिस्टमकोबाहरलगानेकेलिएकहा।इसकेअलावाआइपीडीब्लॉकमेंचौथेफ्लोरपरफार्मास्टोरकानिरीक्षणकरनेकेदौरानमॉड्यूलसिस्टमकोअपनानेकेलिएकहा।टीमकेसाथसिविलसर्जनसंतलालवर्मा,सीनियरमेडिकलऑफिसरडॉ.सतीश,एसएमओडॉ.रीटाकोटवाल,एसएमओडॉ.शीलकांतपजनी,एडमिनडॉ.विनयऔरडॉ.प्रमोदबंसलकेअलावाअन्यभीमौजूदरहे।