बढ़ती जनसंख्या हमारे जीवन को करती है प्रभावित

अंबेडकरनगर:बढ़तीजनसंख्याहमारेजीवनकीकार्यशैलीकोप्रभावितकरनेकेसाथविकासमेंभीबाधकहोसकतीहै।इसलिएप्रत्येकदंपतीकोदोबच्चोंकेबादपरिवारनियोजनकीविधियोंकोअपनानाचाहिए।उक्तबातेंराष्ट्रीयस्वास्थ्यकार्यक्रमकेजिलाप्रबंधकअनिलकुमारमिश्रनेगुरुवारकोविश्वगर्भनिरोधदिवसकेमौकेपरआयोजितजागरूकतागोष्ठीकोसंबोधितकरतेहुएकहा।

उन्होंनेबतायाकिजीवनहैआपका,जिम्मेदारीहैआपकीविषयपरसभीसामुदायिकवप्राथमिकस्वास्थ्यकेंद्रोंपरजागरूकताकार्यक्रमकाआयोजनकरविस्तृतरूपसेचर्चाकीगई।इसमेंआशाबहूमेंएवंअन्यमहिलाएंमुख्यत:शामिलहुईं।इसमौकेपरजनसंख्यास्थिरताकेबारेमेंगर्भनिरोधकसाधनोंकेउपयोगकेप्रतिजागरूकताबढ़ानेकेलिएजानकारीदीगई,साथहीविभिन्नबीमारियोंकेबारेमेंभीलोगोंकोजागरूककियागया।उन्होंनेबतायाकिप्रदेशकीजनसंख्यालगभग20करोड़सेअधिकहोचुकीहैजोभारतकासर्वाधिकजनसंख्यावालाराज्यहै।उन्होंनेबतायाकिजहांएकतरफपरिवारनियोजनकीस्थाईविधियांउनदंपतियोंकेलिएजिनकापरिवारपूराहोचुकाहैबेहतरविकल्पहै।वहींदूसरीतरफयुवादंपतियोंकेलिएपरिवारनियोजनकेअंतरालविधियांउपयोगीहोसकतीहैं।प्रत्येकवर्षके26सितंबरकोगर्भनिरोधदिवसमनायाजाताहै,इसमेंबढ़तीजनसंख्याकेप्रभाववमांएवंबच्चोंपरपड़नेवालेप्रभावकेबारेमेंलोगोंकोजागरूककियाजाताहै।उन्होंनेबतायाकिजागरूककरनेमेंअहमभूमिकानिभानेवालीआशाबहुओंकोभीप्रोत्साहनराशिदेनेकाप्रावधानकियागयाहै।इसमेंदंपतीकेशादीकेदोवर्षकेअंतरालपश्चातपांचसौऔरपहलेबच्चेमेंतीनवर्षकाअंतरालहोताहैतोफिरपांचसौरुपयेऔरदोबच्चेकेपश्चातस्थाईसाधनअपनानेवालेआशाओंकोएकहजाररुपयेकाप्रोत्साहनराशिविभागद्वारामुहैयाकरायाजाताहै।