अग्निकांड के पीड़ित के दोस्त ने कहा, धर्म हमारे बीच कभी नहीं आया

(गौरवसैनी)नयीदिल्ली,नौदिसंबर(भाषा)दिल्लीकेअनाजमंडीबाजारमेंलगीभीषणमेंआगमेंफंसेमुशर्रफअलीकीअपनेदोस्तसेआखिरीबारफोनपरकीगईबातचीतकीरिकॉर्डिंगसामनेआनेकेबादकईलोगोंकीआंखोंमेंआंसूआगए।अग्निकांडमेंजानगवांनेवालेअलीकेबचपनके33वर्षीयदोस्तमोनूअग्रवालनेसोमवारकोकहाकिउनकीअलीकेसाथआखिरीबातचीत‘संयोगसेरिकॉर्ड’होगई।फोनपरकीगईबातचीतकोबादमेंटीवीचैनलोंनेप्रसारितकियाथाऔरइसेसोशलमीडियापरसाझाकियागयाहै।अलीकीजहरीलेधुएंकेकारणमौतहोगई।उन्होंनेअग्रवालसेउनकीमौतकेबादउनकेपरिवार--बुजुर्गमां,पत्नीऔरआठसालसेकमउम्रकेदोबच्चों--काध्यानरखनेकोकहाथा।सोमवारकोअग्रवाल,अलीकीमांकेसाथउनकाशवलेनेकेलिएदिल्लीआएहैं।पूछागयाकिउन्होंनेक्याफोनकॉलजानबूझकररिकॉर्डकीथीतोअग्रवालनेपीटीआई-भाषासेकहा,‘‘मैंनेहमारीबातचीतकभीभीरिकॉर्डनहींकी।यहसंयोगसेहोगईथी।शायदमेरीउंगलीरिकॉर्डिंगबटनसेटचहोगईहोगी।’’उन्होंनेकहा,‘‘मुझेखुदइसकीजानकारीफोनकॉलकटहोनेकेबादआएनोटिफिकेशनसेमिली।’’उत्तरप्रदेशकेबिजनौरजिलेकेरहनेवालेअलीऔरअग्रवालअच्छेऔरबुरेवक्तकेसाथीथे।अग्रवालनेबताया,‘‘हमारेघरएकहीगलीमेंहैं।हमघंटोंबातकरतेथे।हमहरबातपरचर्चाकरतेथे,हमारेबीचमेंकुछभीछुपाहुआनहींथा।हमसुख-दुखमेंएकसाथरहतेथे।’’उन्होंनेकहा,‘‘मुशर्रफमेरेलिएभाईसेबढ़करथा।मजहबहमारेबीचकभीनहींआया।ईदपर,उनकापरिवारहमारीमेहमाननवाजीकरताथाऔरदिवालीपरमैं।’’उन्होंनेअपनेआंसुओंकोरोकनेकीकोशिशकरतेहुएकहा,‘‘उनकेबच्चेअबमेरेबच्चेहैं।मैंनेनिजीकारणोंसेशादीनहींकी।भगवानयहजानताथाकिइनबच्चोंकोमेरीजरूरतहै,शायदइसलिएभगवाननेमुझेअविवाहितरखा।’’अग्रवालनेकहाकिवहजबआठसालकेथेतोउनकेपिताकानिधनहोगयाथा।इसलिएवहबिनाबापकीऔलादकादर्दसमझतेहैं।उन्होंनेकहा,‘‘अलीअपनेमाता-पिताकेइकलौतेबेटेथे।उनकेपिताकानिधनछहमहीनेपहलेहीहुआथा...वहछुट्टीपरथेऔरशुक्रवारदिल्लीआएथे।’’अग्रवालनेबताया,‘‘मेराछोटासाकारोबारहै।मुझेधननहींचाहिए।मैंभगवानसेप्रार्थनाकरताहूंकिवहमुझेबसइतनादेकिदोनोंपरिवारोंकापेटभरजाए।मैंकिसीभीतरहसेकामचलालूंगा।मैंआखिरीसांसतक,मेरेबसमेंजोभीहोगा,करूंगा।’’बिजनौरकेनगीनामेंउनकीबर्तनोंकीदुकानहै।