आर्मी को मिला पहला 'कमांडो' चीफ

विशेषसंवाददाता।।नईदिल्लीसबसेसीनियरइनफैंट्रीअफसरजनरलवी.के.सिंहनेयहांथलसेनाके24वेंप्रमुखकादायित्वसंभाललिया।वहपहलेऐसेआर्मीचीफहोंगे,जिन्होंनेकमांडोट्रेनिंगलीहै।जनरलसिंहअबतकपूर्वीथलसैनिककमांडकेजनरलऑफिसरकमांडिंगइनचीफथे।उन्होंनेआर्मीहेडक्वॉर्टर्समेंएकसादेसमारोहमेंजनरलदीपककपूरकीजगहलीहै।जनरलसिंहकाउग्रवादकेखिलाफकार्रवाईमेंलंबाअनुभवहै।पश्चिमबंगालकेदार्जिलिंगमेंसुकनाजमीनघोटालेकीजांचकेसिलसिलेमेंजनरलसिंहकाफीचर्चामेंथे।वहराजपूतरेजिमेंटमेंतीसरीपीढ़ीकेऑफिसरहैं।उन्होंने1971केभारत-पाकिस्तानयुद्धमेंयुवाकैप्टनकीहैसियतसेहिस्सालियाथा।वहवेलिंगटनस्थितडिफेंससर्विसेजस्टाफकॉलेजसेग्रैजुएटहैं।उन्होंनेअमेरिकाकेकार्लिस्लेस्थितआर्मीवॉरकॉलेजसेभीकोर्सकियाहै।उन्होंनेअमेरिकास्थितफोर्टबेनिंगकेकमांडोट्रेनिंगसेंटरसेकमांडोकारेंजर्सकोर्सभीकियाहै।उग्रवादियोंकेखिलाफकार्रवाईमेंउल्लेखनीययोगदानकेलिएअतिविशिष्टसेवामेडलसेसम्मानितजनरलसिंहजून1970मेंराजपूतरेजिमेंटमेंभर्तीहुएथे।श्रीलंकामेंलिट्टेकेखिलाफचलाएगएऑपरेशनपवनकेदौरानउल्लेखनीयसेवाकेलिएयुद्धसेवामेडलसेसम्मानितजनरलसिंहनेजम्मू-कश्मीरमेंनियंत्रणरेखापरभीड्यूटीदीहै।उन्होंनेथलसेनामुख्यालयमेंमिलिट्रीऑपरेशंसडायरेक्टरेटमेंसेवाएंदीहैंऔरइसदशककेशुरूमेंऑपरेशनपराक्रमकेदौरानएककोरकेब्रिगेडियरजनरलकेतौरपरतैनातरहचुकेहैं।उन्होंनेजालंधरस्थित11वींकोरऔरअंबालास्थितस्ट्राइककोरकीकमांडभीसंभाली।थलसेनामेंअबतकइनफैंट्रीके14,आर्टिलरीके5औरआर्मर्डकोरके5अफसरआर्मीचीफबनचुकेहैं।