आईएएस टॉपर गर्ल्स ने बताया कामयाबी का राज़

नईदिल्लीसिविलसेवापरीक्षाकीटॉपरगर्ल्सनेअपनीकामयाबीकीकहानियांबयांकीहैं।देशकीइससबसेप्रतिष्ठितपरीक्षामेंदिल्लीकीइरासिंघलनेपहला,केरलकीरेणुराजनेदूसराऔरदिल्लीकीहीनिधिगुप्तानेतीसरास्थानहासिलकियाहै।इरानेबतायाकिवह2010सेहीइसपरीक्षाकीतैयारीकररहीथीं।इराकेमुताबिकइननतीजोंसेलोगोंकालड़कियोंऔरहैंडिकैप्डलोगोंकेप्रतिनजरियाबदलेगा।इरानेकहा,‘मैंआईएएसअधिकारीबननाचाहतीथी।मैंशारीरिकरूपसेनिशक्तलोगोंकेलिएकुछकरनाचाहतीहूं।’इरासिंघलवहींपरीक्षामेंदूसरास्थानहासिलकरनेवालीकेरलकीरहनेवालीपेशेसेडॉक्टररेणुराज(27)नेकभीसोचाभीनहींथाकिइतनीबड़ीसफलताउनकेकदमचूमेगी।परिणामघोषितहोनेकेबादखुशीसेफूलेनसमातेहुएउन्होंनेइसप्रतिष्ठितपरीक्षामेंशामिलहोनेवालेउम्मीदवारोंसेकहाकिदृढ़तासफलतादिलातीहै।कोल्लमकेएकईएसआईअस्पतालमेंडॉक्टरराजनेकहा,‘यहमेरापहलाप्रयासथा।पिछलीरातसेहीमैंतनावग्रस्तथी।मैंनेअपनेमाता-पिताकोनहींबतायाथाकिआजदोपहरमेरापरीक्षापरिणामआनेवालाहै।'उन्होंनेकहा,‘परीक्षापरिणामजाननेकेलिएवेबसाइटखोलतेसमयमेरातनावचरमपरथा।मैंवेबसाइटपरअपनापरिणामदेखपातीइससेपहलेहीमेराफोनघनघनानाशुरूहोगयाऔरमेरेदोस्तऔरचाहनेवालोंमेंमुझेबतायाकिमैंनेदेशभरमेंदूसरास्थानप्राप्तकियाहै।’राजकोट्टायमजिलेकेचंगनाचेरीजिलेकीरहनेवालीहैं।पिछलेएकसालसेवहदिल्लीमेंकोचिंगलेरहीथीं,जिसकेकारणवहऔरउनकेमाता-पितादिल्लीमेंहीरहरहेथे।रेणुराजउन्होंनेकहा,‘मुझेविश्वासनहींथाकिमैंपहलेहीप्रयासमेंसफलहोजाऊंगी।मैंअपनीसफलताकाश्रेयअपनेप्रियजनोंकोदेतीहूं,जिन्होंनेहरघड़ीमेरासाथदिया।’राजनेकहा,‘परीक्षामेंशामिलहोनेवालेउम्मीदवारोंसेमैंकहनाचाहतीहूंकिदृढ़ताअपनेआपमेंइनामहै।’गर्वसेफूलेनहींसमारहेउनकेपितानेकहाकिराजकीसफलतागरीबोंतथादबे-कुचलोंकोसमर्पितहै।उन्होंनेकहाकिवहइसबातसेआश्वस्तहैंकिउनकीबेटीसमाजकेसबसेकमजोरतबकेकेलोगोंकीमददकरेगी।उन्होंनेकहा,‘एकडॉक्टरहोनेकेनातेवह50या100मरीजोंकीमददकरसकतीथी,लेकिनएकसिविलसेवाअधिकारीकेनातेउसकेएकफैसलेसेहजारोंलोगोंकोलाभमिलेगा।’राजकेपतिभीडॉक्टरीपेशेसेहीजुड़ेहैं।उल्लेखनीयहैकिसाल2013मेंइसीशहरकीएकइंजिनियरहरिथावी.कुमारनेइसपरीक्षामेंप्रथमस्थानप्राप्तकियाथा।निधिगुप्तावहींइसपरीक्षामेंतीसरास्थानहासिलकरनेवालीनिधिनेकहाकियहउनकेलिएएकगर्वकापलहै।वर्तमानमेंसहायकसीमाशुल्कएवंकेंद्रीयआबकारीआयुक्तकेतौरपरकामकररहींनिधिनेकहा,‘यहसचमेंएकगर्वकापलहै।मैंनेकड़ीमेहनतकीऔरआखिरकारउसकाफलमिला।’निधिनेकहाकिटॉपथ्रीमेंआनेसेवहखुशहैं,लेकिनअसलीखुशीतबमिलेगीजबमैंफील्डमेंउतरूंगी।