89 शिक्षकों पर दर्ज हुई प्राथमिकी, योगदान नहीं करना पड़ा महंगा

जागरणसंवाददाता,सुपौल:इंटरमीडिएटवार्षिकपरीक्षा2019केव्यावहारिकउत्तरपुस्तिकाओंकामूल्यांकनकार्यकोलेकरबिहारविद्यालयपरीक्षासमितिद्वाराप्रतिनियुक्तकिएगएवैसेप्रधानपरीक्षकएवंसहपरीक्षकजिन्होंने5मार्चतकनिर्धारितकेंद्रोंपरयोगदाननहींकिएउनकेविरुद्धजिलाशिक्षापदाधिकारीकेनिर्देशपरसदरथानेमेंथानाकांडसंख्या138/19दर्जकियागयाहै।इससंबंधमेंजानकारीदेतेहुएथानाध्यक्षराजेशकुमारमंडलनेबतायाकिप्रखंडशिक्षापदाधिकारीसुपौलकेआवेदनपरबिहारविद्यालयपरीक्षासमितिकेअधिनियम1981केतहतथानेमेंप्राथमिकीदर्जकीगईहै।बतातेचलेंकिऐसेशिक्षकोंकोचिन्हितकरजिलाशिक्षापदाधिकारीअजयकुमारसिंहनेसंबंधितप्रखंडशिक्षापदाधिकारीकोउनकेविरुद्धकार्रवाईकरनेकोकहाथा।जारीआदेशमेंडीईओनेकहाथाकिजिलेमें2मार्चसेइंटरमीडिएटपरीक्षाकीउत्तरपुस्तिकाओंकामूल्यांकनकार्यचलरहाहै।मूल्यांकनकार्यकोसुचारुरूपसेचलानेकेलिएबिहारविद्यालयपरीक्षासमितिनेजिलेमेंस्थापितकिएगएतीनमूल्यांकनकेंद्रोंकेलिएअलग-अलगपरीक्षकोंकीप्रतिनियुक्तिकीथी।जिन्हें2मार्चकोहीयोगदानदेनाथा।2मार्चतकयोगदाननहींदेनेवालेपरीक्षकोंकोएकऔरमौकादेतेहुएपरीक्षासमितिने5मार्चतकहरहालमेंकेंद्रोंपरयोगदानदेनेकाआदेशजारीकियाथा।परंतुमूल्यांकनकेंद्रकेनिदेशकद्वारा5मार्चतकयोगदाननहींदेनेवालेपरीक्षकोंकीसूचीसौंपीगईथी।जिसकेतहततीनोंमूल्यांकनकेंद्रोंपरकुल89परीक्षकोंनेयोगदाननहींदियाथा।ऐसेपरीक्षकोंकेविरुद्धबिहारविद्यालयपरीक्षासंचालकअधिनियम1981केप्रावधानएवंआईपीसीकीसुसंगतधाराओंकेअंतर्गतप्राथमिकीदर्जकरनेकाआदेशसंबंधितप्रखंडशिक्षापदाधिकारीकोदेतेहुएअनुपालनप्रतिवेदनउपलब्धकरानेकोकहाथा।